वेटरनरी विश्वविद्यालय बायो एनर्जी के क्षेत्र में उधमिता के अवसर विषय पर राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

वेटरनरी विश्वविद्यालय
बायो एनर्जी के क्षेत्र में उधमिता के अवसर
विषय पर राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

बीकानेर, 10 अक्टूबर। वेटरनरी विश्वविद्यालय के संघठक महाविद्यालय नवानियां, उदयपुर के पशुधन नवाचार, ज्ञान एवं उद्यमिता केंद्र द्वारा बायो एनर्जी के क्षेत्र में उधमिता के अवसर विषय पर राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने कहा कि पशुचिकित्सा विद्यार्थियों को पशुचिकित्सा व्यवसाय के अतिरिक्त भी अन्य संबंधित विषयों में उद्यमिता की पहचान कर आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा की नवीकरणीय ऊर्जा के श्रोतों में जैव इंधन का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है अतः हमें फार्म अपशिस्टों का उपयोग जैव इंधन के रूप में किए जाने के प्रति सचेष्ट रहना होगा। उन्होंने संकाय सदस्यों से आह्वान किया कि वे विद्यार्थियों के नवाचार को परिष्कृत करने में उनकी सहायता करें। उन्होंने कोविड अवधि में इस प्रकार के वेबीनार के आयोजन को अति उपयोगी बताया। इन वेबिनार के माध्यम से विद्यार्थियों को नवीन जानकारी प्राप्त हो रही है, उन्हें इस अवसर का लाभ उठाकर अग्रसर होना चाहिए। वेबीनार में मुख्य वक्ता उत्तर प्रदेश जैव ऊर्जा विकास बोर्ड के सदस्य श्री पी.एस. ओझा ने जैव ऊर्जा में विभिन्न मॉडल पर विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने जैव ऊर्जा की आवश्यकता पर बल देते हुए इसकी विभिन्न सामुदायिक मॉडल की सफल कहानियां का वर्णन किया। वेबीनार के प्रारंभ में महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रो. राजीव जोशी ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि इस केंद्र द्वारा यह तीसरी वेबीनार का आयोजन किया गया है। कार्यक्रम का संचालन केंद्र के सह अन्वेषक डॉ. दीपक शर्मा और डॉ. शिव कुमार शर्मा ने किया। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के संकाय अध्यक्ष डॉ. आर. के. सिंह, पी.जी.आई.वी.ई.आर. जयपुर अधिष्ठाता डॉ. संजीता शर्मा, अनुसंधान निदेशक डॉ. हेमंत दाधीच तथा निदेशक मानव संसाधन डॉ. त्रिभुवन शर्मा उपस्थित रहे। वेबीनार का आयोजन विश्वविद्यालय के आईयूएमएस प्रभारी डॉ. अशोक डांगी एवं डॉ. गोवर्धन सिंह के सहयोग से संपन्न किया गया।