वेटरनरी विश्वविद्यालय प्रबंध मंडल की बैठक का आयोजन राजुवास के नियम-परिनियम व शिक्षक पदौन्नति प्रक्रिया को मंजूरी नए एच.आर.डी. निदेशालय व लैण्डस्केप सैल होंगे गठित

वेटरनरी विश्वविद्यालय प्रबंध मंडल की बैठक का आयोजन
राजुवास के नियम-परिनियम व शिक्षक पदौन्नति प्रक्रिया को मंजूरी
नए एच.आर.डी. निदेशालय व लैण्डस्केप सैल होंगे गठित

बीकानेर, 15 मई। वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रबंध मंडल की 22वीं बैठक शुक्रवार को कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक मंे राजस्थान सरकार द्वारा संशोधित कर भेजे गए विश्वविद्यालय के नए नियम-परिनियमों को मंजूरी प्रदान की गई। राज्य में निजी क्षेत्र के वेटरनरी कॉलेज की सम्बद्धता के नए नियमों को भी स्वीकृति प्रदान कर दी। बैठक में प्रबंध मंडल के बाह्य सदस्यों ने ऑन लाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से शिरकत की। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने बताया कि ‘‘बोम’’ की इस बैठक में विश्वविद्यालय सु़द्धढ़ीकरण के महत्वपूर्ण फैसलों का अनुमोदन किया गया। वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा पहली बार नए नियम-परिनियम तैयार करके अनुमोदन के लिए राज्य सरकार को प्रेषित किए गए। राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में परीक्षण के उपरांत सुझाये गए संशोधनों के साथ इनको आज मंजूरी प्रदान करने से विश्वविद्यालय की प्रशासनिक प्रक्रिया मंे तेजी लाई जा सकेगी। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के शिक्षकों की पदौन्नति प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए स्कोर कॉर्ड और विशेषज्ञों के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया गया। अब विश्वविद्यालय शिक्षकों की पदौन्नति प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जा सकेगी। विश्वविद्यालय में शीघ्र ही नया मानव संसाधन विकास निदेशालय शुरू किया जाएगा। बैठक में इस प्रस्ताव का भी अनुमोदन कर दिया गया। कुलपति प्रो. शर्मा ने बताया कि प्रबंध मंडल ने विश्वविद्यालय के ऐहितासिक बिजेयसिंह पैलेस भवन की प्राकृतिक एवं भव्यता को ओर अधिक निखारने और विकास के लिए ‘‘एक लैण्डस्केप और परिसर सौन्दर्यकरण सैल’’ के गठन किए जाने पर अपनी सहमति व्यक्त कर दी। बैठक में नामांकित सदस्य के रूप में खाजूवाला के विधायक श्री गोविंद मेघवाल, प्रगतिशील पशुपालक पुरखाराम, उद्यमी अशोक मोदी शामिल हुए। श्रीमती कृष्णा सोलंकी (जयपुर) और पी.के. शुक्ला (मथुरा) ने बैठक मंे वीडियो कान्फ्रेसिंग से शिरकत की। इसके अलावा पशुपालन विभाग की ओर से डॉ. वीरेन्द्र नेत्रा, रेणू गोयल और विश्वविद्यालय के कुलसचिव अजीतसिंह राजावत, वित्त नियंत्रक अरविंद बिश्नोई, प्रो. आर.के. सिंह और प्रो. हेमंत दाधीच ने बैठक में भाग लिया।