पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर द्वारा “पशुधन क्षेत्र में जेन्डर” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर द्वारा “पशुधन क्षेत्र में जेन्डर” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

जयपुर, 12 जनवरी। स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (पी.जी.आई.वी.ई.आर.), जयपुर के पशुधन नवाचार, ज्ञान और उद्यमिता कौशल केन्द्र द्वारा मंगलवार को “पशुधन क्षेत्र में जेन्डर” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। वेबिनार की अध्यक्षता करते हुए प्रो. (डाॅ.) विष्णु शर्मा, कुलपति, राजुवास ने कहा कि जेन्डर का अर्थ सिर्फ महिलाओं से नहीं है, इसमें पुरूष और महिला दोनों आते हैं। उन्होंने बताया कि कृषि विषेषकर पशुपालन के क्षेत्र में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने लैंगिक समानता के सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक प्रभाव पर भी अपने विचार व्यक्त किये। वेबिनार की मुख्य वक्ता डाॅ. ममता धवन, अन्तराष्ट्रीय सलाहकार (पशुचिकित्सा, पशुधन और आजिविका क्षेत्र) ने पशुपालन क्षेत्र में महिलाओं की भागिदारी की चर्चा करते हुए बताया कि इस क्षेत्र में पुरूषों की तुलना में महिलाओं की भागिदारी अधिक है, परन्तु उनकी भूमिका की उपेक्षा की जाती है। उन्हें पुरूषों की तुलना में कम मजदूरी दी जाती है। लेकिन अब समय आ गया है जब हमें समाज मंे लैंगिक समानता की जरूरत है। उन्होंने महिलाओं में नेतृत्व क्षमता तथा उद्यमिता विकसित कर उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ने पर बल दिया। डाॅ. धवन ने अपने जीवन में लैंगिक असमानता पर अर्जित व्यक्तिगत अनुभव साझा किये। संस्थान की अधिष्ठाता प्रो. संजीता शर्मा ने अपने उदबोधन में बताया कि खाद्य सुरक्षा तथा राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने पशुपालन के क्षेत्र में महिलाओं के योगदान पर और अधिक शोध एवं अनुसंधान पर जोर दिया। वेबिनार का संचालन डाॅ. अशोक बैंधा तथा धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. रश्मि सिंह ने किया।