वेटरनरी विश्वविद्यालय 19वीं अकादमिक परिषद की बैठक सम्पन्न

बीकानेर 30 सितम्बर। वेटरनरी विश्वविद्यालय की 19वीं अकादमिक परिषद की बैठक कुलपति प्रो. सतीश के. गर्ग की अध्यक्षता में गुरुवार को आयोजित की गई। बैठक की शुरुआत में कुलपति प्रो. गर्ग ने अकादमिक परिषद के सभी सदस्यों का स्वागत करते हुए विश्वविद्यालय द्वारा शिक्षा, अनुसंधान, प्रसार कार्यक्रमों की जानकारी दी। वेटरनरी विश्वविद्यालय के अन्तर्गत मुख्यमंत्री की बजट घोषणाओं के तहत खुले नये डेयरी व खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालयों के विषयों एवं विभागों का निर्धारण इस बैठक में पारित किया गया। विश्वविद्यालय के संघटक महाविद्यालयों में प्रवासी (एन.आर.आई.) छात्रों को स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश देने हेतु सीटों, शुल्क एवं महत्वपूर्ण दिशा निर्देशों की पालना हेतु प्रारूप बनाने हेतु परिषद ने कमेटी बनाने का सुझाव दिया। इसके साथ ही परिषद के सदस्यों ने लघु पाठ्यक्रमों व ई-पाठ्यक्रमों के माध्यम से अर्जित आय को सुव्यवस्थित तरीके से उपयोग करने व साथ ही संघटक महाविद्यालयों में गेस्ट फैकल्टी हेतु नियमों के निर्धारण संबंधित विभिन्न सुझावों पर चर्चा कर अकादमिक परिषद के सदस्यों द्वारा सक्षम स्तर से अनुमोदन हेतु पारित किया गया। शिक्षकों द्वारा स्नातकोत्तर अध्ययन एवं गाइड के एक्रिडेशन के लिए पारित आदेशों एवं स्नातकोत्तर और पी.एचडी. परिणामों का अनुमोदन भी इस बैठक में किया गया। वित्त नियंत्रक एवं कार्यवाहक कुलसचिव प्रताप सिंह पूनिया ने गत बैठक की कार्यवाही विवरण और अनुपालना रिपोर्ट प्रस्तुत की जिसका शैक्षणिक परिषद ने अनुमोदन कर दिया। इस अवसर पर अकादमिक परिषद के सदस्यों ने वेटरनरी कॉलेज, नवानियां द्वारा तैयार रेबीज रोग के फोल्डर का विमोचन किया। बैठक में अकादमिक परिषद के सदस्य प्रो. बी.पी. मिश्रा, निदेशक, एन.बी.ए.जी.आर., करनाल, डॉ. रामनिवास, निदेशक, मत्सत्य विभाग, राजस्थान ने ऑनलाईन जुड़कर विश्वविद्यालय के शैक्षणिक, प्रशासनिक, अनुसंधान की सराहना करते हुए अपने सुझाव दिये। डॉ. संजय कुमार शर्मा (पंतनगर), डॉ उदयवीर सिंह (लुधियाना), डॉ. हुकमाराम, अतिरिक्त निदेशक, पशुपालन विभाग राजस्थान, डॉ. भरत सिंह चौधरी, आर.सी.डी.एफ., डॉ. वीरेन्द्र नेत्रा, अतिरिक्त निदेशक, पशुपालन विभाग, राजस्थान, सहित विश्वविद्यालय के डीन डायरेक्टर्स व मनोनीत विभागाध्यक्ष शामिल हुए।