वेटरनरी विश्वविद्यालय प्रबंध मंडल की बैठक का आयोजन शैक्षिक, अनुसंधान व वित्त के महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर हुई चर्चा

बीकानेर, 23 अक्टूबर। वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रबंध मंडल की 25वीं बैठक शनिवार को कुलपति प्रो. सतीश के. गर्ग की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक की शुरुआत में कुलपति प्रो. गर्ग ने प्रबंध मंडल के सभी सदस्यों को स्वागत करते हुए विश्वविद्यालय द्वारा किए जा रहे शिक्षा, अनुसंधान एवं प्रसार कार्यक्रमों की जानकारी सदन को दी। कुलपति प्रो. गर्ग ने बताया कि बोम की इस बैठक में राज्य सरकार द्वारा स्वीकृत नवीन महाविद्यालयों के शैक्षणिक पदों का विषयवार विभाजन, विश्वविद्यालय में उपलब्ध रिक्त पदों पर सेवानिवृत कर्मचारियों की पुनः नियुक्ति, टीचिगं एसोसियट की सेवाओ सम्बधित प्रक्रिया को अधिक पारदर्शी एवं प्रभावी बनाने के साथ-साथ विश्वविद्यालय के सुद्दढ़ीकरण हेतु विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा एवं अनुमोदन किये गये। प्रबन्ध मण्डल के सदस्यों द्वारा वेटरनरी विश्वविद्यालय के अर्न्तगत नवीन डेयरी व खाद्य प्रोद्योगिकी महाविद्यालय, पशु विज्ञान केन्द्र, जोबनेर व नावां वेटरनरी कॉलेज के लिए स्वीकृत पद व बजट हेतु राज्य सरकार को धन्यवाद ज्ञापित किया। डेयरी व खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालयों के लिए फीस का निर्धारण भी इस बैठक में किया गया। बैठक में विश्वविद्यालय की अत्याधुनिक शोध प्रयोगशालाओं के एन.ए.बी.एल. एक्रिडिटेशन पर आवश्यकता जताई गई। विश्वविद्यालय के प्लानिंग बोर्ड की बैठक में दिये गये सुझावों पर मण्डल के सदस्यों ने सहमति जताई। प्रबंध मंडल की बैठक में गत बैठक की कार्यवाही व कार्ययोजना को मंजूरी प्रदान की गई, साथ ही बैठक में उच्चाधिकार समिति, अकादमिक परिषद् तथा वित्त समिति के गत बैठको की कार्यवाही को मंजूरी प्रदान की गई। प्रबंध मंडल के मनोनीत सदस्य खाजुवाला विधायक श्री गोविन्द मेघवाल, राजुवास के संस्थापक एवं पूर्व कुलपति प्रो. ए.के. गहलोत, डॉ. अमित नैण (प्रतिनिधि, वी.सी.आई.), रणजीत सिंह (शिक्षाविद्), श्रीमती कृष्णा सोलंकी (समाज सेविका), अशोक मोदी (उद्यमी), पुरखाराम (प्रगतिशील पशुपालक), डॉ. भरत सिंह (प्रतिनिधि, आर.सी.डी.एफ.), डॉ. सैयद इरशाद (प्रतिनिधि, निदेशक मत्स्य पालन), डॉ. वीरेन्द्र नेत्रा (प्रतिनिधि, सचिव एवं निदेशक, पशुपालन विभाग), विश्वविद्यालय के कुलसचिव अजीत सिंह राजावत, अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह और निदेशक अनुसंधान, प्रो. हेमंत दाधीच ने बैठक में भाग लिया।