वेटरनरी कॉलेज की 38वीं बैच मीट में अल्यूमिनाई ने किया पुरानी यादों को ताजा हमें एक सक्षम डॉक्टर एवं आदर्श शिक्षक का उदाहरण बनना चाहिए: कुलपति प्रो. सतीश के. गर्ग

बीकानेर 25 दिसम्बर। वेटरनरी कॉलेज, बीकोनर के 1993 बेच के अल्यूमिनाई वर्षों बाद रंगीन साफों में नाचते गाते शनिवार को महाविद्यालय पंहुचे। यहां पहुंचे 25 डॉक्टर परिवारों ने अपने परिजनों और बच्चों के साथ मिलकर खूब ठुमके लगाए और एक दूसरे से मिलकर अपनी पुरानी यादों को साझा किया। वेटरनरी अल्यूमिनाई 38वीं बेच मीट में अपने जीवन के सुनहरे पलों का स्मरण कर भाव-विभोर हो गए। दो दिवसीय बेच मीट में उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सतीश के. गर्ग ने कहा कि वर्षों बाद अपने सहपाठियों से मिलना एवं महाविद्यालय एवं अपने प्रोफेशन में आए बदलाव का अहसास एक सुखद और सुनहरी अनुभूति है। अल्यूमिनाई द्वारा अपने क्षेत्र में किये जाने वाले प्रोफेशन एवं समाज कल्याण के कार्यों में उनके संस्थान की झलक प्रदर्शित होती है अतः हमें हमारे प्रोफेशनल दक्षता को हमेशा नवीन ज्ञान एवं नवाचारों से अपडेट रखना चाहिए। हमें हमेशा समाज की जरूरतों को और अपने फील्ड के आदर्शो की पालना करते हुए कार्यों को अंजाम देना चाहिए। हमें एक सक्षम डॉक्टर एवं आदर्श शिक्षक का उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए ताकि छात्र अपने शिक्षकों का अनुसरण कर सकें। कार्यक्रम के विशिष्ट अर्तििथ पूर्व कुलपति राजुवास प्रो. ए.के. गहलोत ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि अल्युमिनाई को हमेशा पशुचिकित्सा क्षेत्र के सुदृढीकरण में योगदान देना चाहिए एवं वाट्सअप ग्रुप एवं अन्य माध्यमों से परस्पर सम्पर्क में रहना चाहिए। पशुचिकित्सकों को विश्वविद्यालय या पशुपालन विभाग द्वारा आयोजित विभिन्न प्रशिक्षणों में भाग लेकर अपने कौशल एवं साईटिफिक ज्ञान कों बढ़ाना चाहिए। वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि महाविद्यालय की आशातीत प्रगति और पशुचिकित्सा में आधुनिक तकनीकों को देखकर आपको सुखद अनुभूति होगी। वेटरनरी कॉलेज अल्यूमिनाई एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. आर.के. तवंर ने संगठन के उद्धेश्यों की जानकारी देते हुए स्नातक डिग्री प्रोग्राम में शीर्ष चार रेंक हेतु केशव गोड़, आयूषा, बिजल यादव एवं कोमल राठौड़ को गोल्ड मेडल प्रदान किये। डॉ. हुकमाराम, अतिरिक्त निदेशक, पशुपालन विभाग, बीकानेर ने सभी अल्यूमिनाई को सम्बोधित करते हुए अपने विचार व्यक्त किये। बैच मीट के विद्यार्थियों की ओर से कुलपति प्रो. गर्ग, अतिथियों और महाविद्यालय के शिक्षकों को शॉल ओढ़ाकर श्रीफल प्रदान कर सम्मानित किया गया। अल्युमिनाई ने पूरे महाविद्यालय में भ्रमण कर अपनी यादों को ताजा किया। बैच मीट के चैयरमेन डॉ. धर्म सिंह मीना ने पूरे कार्यक्रम की रूपरेखा बनाकर समन्वय किया। बैच मीट के अध्यक्ष डॉ. सुरेश कुमार झीरवाल ने सभी का स्वागत किया। सचिव डॉ. सुनीता पारीक ने सभी को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के अधिकारी, शिक्षक एवं छात्र मौजूद रहे। रविवार को बैच के सदस्य अपने परिजनों के साथ बीकानेर के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक स्थलों का भ्रमण करेंगे।