विश्व रेबीज दिवस श्वानो में रेबीज निरोधक टीकाकरण शिविर का आयोजन 55 श्वानों का किया रेबीज निरोधक टीकाकरण

बीकानेर, 28 सितम्बर। विश्व रेबीज दिवस पर वेटरनरी कॉलेज और केनाइन वेलफेयर सोसाइटी के तत्वावधान में एक दिवसीय टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया एवं पालतु श्वानों को रेबीज निरोधक टीके लगाए गये। वेटरनरी विश्वविद्यालय के निदेशक क्लिनिक प्रो. ए.पी. सिंह ने बताया कि कुल 55 पालतु श्वानों को निःशुल्क रेबीज निरोधक टीके लगाए गये तथा 43 श्वान पालकों को रेबीज के टोकन वितरीत किये गये। प्रो. सिंह ने विद्यार्थियों एवं आमजन को रेबीज बीमारी की भयावहता एवं बचाव के उपायों से अवगत कराया। इस अवसर पर प्रो. आर.के. तंवर ने बताया कि रेबीज एक संक्रामक बीमारी है, जो मनुष्य सहित पशुआंे को प्रभावित कर सकती है। मनुष्यों में 90 प्रतिशत से ज्यादा रेबीज के मामले श्वानों के काटने से होते है जिसके कारण भारत में लगभग 30,000 लोगों की मौत हो जाती है। इस रोग को रेबीज निरोधक टीकाकरण के माध्यम से रोका जा सकता है। इस अवसर पर वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. सुभाष गोस्वामी, निदेशक अनुसंधान प्रो. हेमन्त दाधीच, निदेशक प्रसार शिक्षा प्रो. राजेश कुमार धूड़िया, निदेशक पी.एम.ई. प्रो. अन्जु चाहर, प्रो. जे.एस. मेहता, प्रो. अनिल आहुजा, प्रो. प्रवीण बिश्नोई, डॉ. दीपिका धूड़िया, डॉ. जे.पी. कछावा, डॉ. सीताराम गुप्ता, डॉ. सुनीता चौधरी एवं पी.जी. व पी.एच.डी. विद्यार्थियों मौजूद थे।