प्रो. सतीश के. गर्ग ने वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति पद का कार्य संभाला

बीकानेर 9 अगस्त। राजस्थान पशुचिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति पद का कार्यभार सोमवार को प्रो. सतीश के. गर्ग ने ग्रहण कर लिया। राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्री कलराज मिश्र ने शुक्रवार को प्रो. गर्ग को वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति के पद पर नियुक्त किया था। निवर्तमान कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने उन्हें कार्यभार सौपा। प्रो. गर्ग वेटरनरी फार्मेकोलॉजी के प्रख्यात वैज्ञानिक है जिन्हें 35 वर्ष को शैक्षणिक और प्रशासनिक अनुभव है। प्रो. गर्ग उत्तर प्रदेश पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं गौ अनुसंधान संस्थान, मथुरा में दस वर्षो तक अधिष्ठाता के पद पर कार्य कर चुके हैं। इससे पूर्व बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, पटना में कुलसचिव के पद पर कार्यरत थे। इस अवसर पर कुलपति प्रो. गर्ग ने कहा कि देश में तमिलनाडू वेटरनरी विश्वविद्यालय के बाद राजुवास दूसरा विश्वविद्यालय है जिसका कार्य क्षेत्र पूरा राज्य है। राजुवास अपनी स्थापना के अल्पकाल में ही चंहुमुखी प्रगति कर एक अग्रणी विश्वविद्यालय बना है। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास होगा कि शिक्षण और अनुसंधान कार्यों में दक्षता और गुणवत्ता हासिल की जाए। राजस्थान जैसे पशुधन प्रधान राज्य में गांव-ढाणी तक पशुचिकित्सा और पशुपालन सेवाएं मुहैय्या करवाने के लिए युवाओं के लिए पैरावेट के प्रशिक्षण जैसे कार्य प्राथमिकता से किये जायेगे। कुलपति प्रो. गर्ग ने कहा कि वे अपने 35 वर्ष के शैक्षिक व प्रशासनिक अनुभव के साथ ही राजुवास के शैक्षणिक, अनुसंधान और प्रसार शिक्षा कार्यों को तेजी से लागू करने का प्रयास करेंगे। शोध परियोजनाओं को स्थानीय जलवायु और पशुधन की स्थिति के मद्देनजर बनाया जाएगा जिससे पशुपालकों को सीधा लाभ मिल सके। विश्वविद्यालय के डीन-डायरेक्टर, अधिकारीगण, सभी शिक्षकों ने नवनियुक्त कुलपति प्रो. गर्ग को बधाई दी।