स्वामी विवेकानन्द जयंती समारोह भारतीय संस्कृति और ज्ञान के पुंज स्वामी विवेकानन्द युवाओं की प्रेरणा स्त्रोत हैंः कुलपति प्रो. छीपा

क्रमांक 1845                                                                                                12 जनवरी, 2018

स्वामी विवेकानन्द जयंती समारोह
भारतीय संस्कृति और ज्ञान के पुंज स्वामी विवेकानन्द युवाओं
की प्रेरणा स्त्रोत हैंः कुलपति प्रो. छीपा

बीकानेर, 12 जनवरी। स्वामी विवेकानंद की जयंती “राष्ट्रीय युवा दिवस“ पर शुक्रवार को वेटरनरी विश्वविद्यालय में स्थापित स्वामी जी की आदमकद प्रतिमा पर कुलपति प्रो. बी.आर. छीपा, फैकल्टी सदस्यों, कर्मचारियों और छात्र-छात्राओं ने बड़ी संख्या में स्मरण कर श्रृद्धासुमन अर्पित किए। छात्र कल्याण अधिष्ठाता और प्रसार शिक्षा निदेशालय द्वारा आयोजित समारोह में कुलपति प्रो. छीपा ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने भारतीय संस्कृति के कर्णधार और एक ओजस्वी, स्वाभिमानी महात्मा के रूप में पूरे विश्व को विश्व बंधुत्व का संदेश दिया। वे युवाओं के प्रेरणा स्त्रोत हैं। अतः पूरे देश में उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। प्रो. छीपा ने कहा कि देश की युवा पीढ़ी को अपनी शक्ति और सामथर््य को पहचान कर देश के नवनिर्माण में अपना योगदान करना है। स्वामी जी से हमें देश भक्ति, ज्ञान, योग, कर्म और बुद्धिमता जैसे गुणों को अंगीकार करने की प्रेरणा मिलती है। इससे पूर्व छात्र कल्याण के अधिष्ठाता प्रो. एस.सी. गोस्वामी ने उनके बिरले व्यक्तित्व पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि स्वामी जी द्वारा दी गई लक्ष्य प्राप्त होने तक निरंतर कर्म की प्रेरणा हमारा मूल मंत्र है। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. हेमन्त दाधीच ने स्वामी के प्रेरणादायी व्यक्तित्व और कृतित्व पर विचार रखे। समारोह के प्रारंभ में वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. एस.के. कश्यप, प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. ए.पी. सिंह, अनुसंधान निदेशक प्रो. आर.के. सिंह, कुलपति के प्रशासनिक सचिव प्रो. बी.एन. श्रृंगी ने स्वामी जी की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। सभी छात्र-छात्राओं, कर्मचारियों, फैकल्टी सदस्यों ने पुष्प अर्पित कर स्वामी जी का स्मरण किया।

निदेशक