वेटरनरी विश्वविद्यालय सोशल रिस्पोंसिबिलिटी गोद लिए गाढ़वाला के चहुँमुखी विकास की कार्य योजना पर अमल शुरू

वेटरनरी विश्वविद्यालय सोशल रिस्पोंसिबिलिटी
गोद लिए गाढ़वाला के चहुँमुखी विकास की कार्य योजना पर अमल शुरू

बीकानेर, 16 मार्च। वेटरनरी यूनिवर्सिटी सोशल रिस्पोंसिबिलिटी के तहत गोद लिए गाढ़वाला गांव को विकसित करने की कार्य योजना की कोर्डिनेशन कमेटी की बैठक मंगलवार को आयोजित की गई। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में जिला अधिकारियों ने भाग लिया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. शर्मा ने कहा कि राज्यपाल महोदय के निर्देशानुसार गाढ़वाला के चहुँमुखी विकास के लिए सभी विभागों को अपना महत्ती योगदान करना है। इसमें गांव की जरूरत के मुताबिक ढांचागत विकास, जिला परिषद, शिक्षा, कृषि, स्वास्थ्य, पेयजल, स्वच्छता, उद्यमिता विकास और स्वरोजगार के कार्यक्रमों के साथ-साथ जन जागरूकता के कार्य करने हैं। कुलपति प्रो. शर्मा ने बताया कि गाढ़वाला के राजकीय सीनियर हायर सैकेण्डरी स्कूल में विज्ञान व कृषि विज्ञान संकाय खोलने के प्रस्ताव जिला शिक्षा अधिकारी के माध्यम से प्रेषित करवाये जायेंगे। बैठक में खेलकूद स्टेडियम बाबत भूमि के आवंटन प्रस्ताव के लिए ग्राम पंचायत को अग्रिम कार्यवाही का आग्रह किया गया। गांव के उप स्वास्थ्य केन्द्र को क्रमोन्नत कर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बनाने के प्रस्ताव भी चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार कर भिजवाये जायेंगे। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक ने बताया कि पशु चिकित्सा उप केन्द्र को क्रमोन्नत करने के प्रस्ताव भी बनाकर पशुपालन विभाग को शीघ्र प्रेषित किये जायेंगे। गांव में ऊंटों और देशी गौवंश की संख्या के मद्देनजर पशुपालन विभाग और वेटरनरी विश्वविद्यालय के सहयोग से नस्ल सुधार कार्यक्रम लागू किया जाएगा। आयुर्वेद डिस्पेंसरी शुरू करने के लिए भी प्रस्ताव राज्य सरकार को भिजवाया जाएगा। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य और आयुर्वेद विभाग द्वारा गांव में स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन कर ग्रामीणों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया जाएगा। गाढ़वाला में नाबार्ड बैंक, जिला लीड बैंक और उद्योग विभाग की योजनाओं को लागू करने के उपायों पर बैंक अधिकारियों ने सहमति व्यक्त की। बैठक के प्रारंभ में वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशक और गाढ़वाला के नोडल आफिसर प्रो. राजेश कुमार धूड़िया ने कार्य योजना का प्रस्तुतीकरण किया। बैठक में उपखण्ड अधिकारी मीनू वर्मा, पशुपालन के संयुक्त निदेशक डॉ. ओ.पी. किलानिया, आयुर्वेद उपनिदेशक डॉ. रमेश कुमार सोनी, लीड बैंक आफिसर सुरेश शर्मा, नाबार्ड जिला प्रबंधक रमेश ताम्बिया जिला उद्योग केन्द्र की पूजा शर्मा, कृषि आत्मा परियोजना की उप परियोजना निदेशक ममता, गाढ़वाला सरपंच प्रतिनिधि मोहनराम, वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह, निदेशक अनुसंधान प्रो. हेमन्त दाधीच व जिला विभागों के अधिकारीगण शामिल हुए।