वेटरनरी विश्वविद्यालय में कृषि-पशु विज्ञान मेले में पशुपालन तकनीकों के साथ पशु-पक्षियों की प्रजातियों का होगा प्रदर्शन कुलपति प्रो. छीपा द्वारा समीक्षा बैठक

क्रमांक 1742                                                                                                                29 सितम्बर, 2017

वेटरनरी विश्वविद्यालय में कृषि-पशु विज्ञान मेले में पशुपालन तकनीकों के साथ पशु-पक्षियों की प्रजातियों का होगा प्रदर्शन
कुलपति प्रो. छीपा द्वारा समीक्षा बैठक

बीकानेर, 29 सितम्बर। वेटरनरी विश्वविद्यालय और उपनिदेशक कृषि व पदेन परियोजना निदेशक, आत्मा के सयंुक्त तत्वावधान में 6 अक्टूबर को होने वाले कृषि एवं पशु विज्ञान मेले में पशुपालन व कृषि तकनीकों की प्रदर्शनी और “राजुवास पशु शो” में विभिन्न प्रजातियों के पशु-पक्षियों का प्रदर्शन किया जाएगा। एक दिवसीय विशाल मेले में फसलों, फलों और स्वस्थ पशुओं की विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन कर प्रगतिशील कृषकों और पशुपालकों को नकद पुरस्कार और प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जायेंगे। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बी.आर. छीपा की अध्यक्षता में शुक्रवार को मेले की व्यवस्था बाबत बैठक आयोजित कर दिशा-निर्देश दिये गए। मेले के सफल आयोजन के लिए वेटरनरी विश्वविद्यालय में 16 विभिन्न समितियों का गठन कर जिम्मा सौंपा गया है। कुलपति प्रो. छीपा ने कहा कि मेले में पहुँचने वाले कृषकों, पशुपालकों सहित विभिन्न प्रतियोगिताओं में शामिल होने वाले पशु-पक्षियों की सुविधाओं के लिए सभी पुख्ता उपाय किये जाएं। मेले में दूरदराज से बड़ी संख्या में किसान और पशुपालक इसमें शामिल होंगे। राज्य में श्रेष्ठ नस्ल की गाय, भैंस, भेड़, बकरी, ऊँट और अश्व की प्रतियोगिताएं होंगी। फसल प्रदर्शन में मंूगफली, बाजरा, व ग्वार और फलों में नींबू व अनार व सब्जियों में काकड़िया व खीरा के चयनित उत्पादों के लिए भी नकद पुरस्कार और प्रमाण पत्र प्रदान किये जायेंगे। मेला प्रबंधन समिति के सदस्य सचिव और प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. ए.पी. सिंह ने बताया कि मेले में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद्, के 6 केन्द्रीय संस्थानों द्वारा कृषि, शुष्क उद्यानिकी, भेड़ व ऊन, अश्व, उष्ट्र, काजरी सहित कृषि विश्वविद्यालय, सहकारिता विभाग के विभिन्न स्टाॅल प्रदर्शनी लगेगी। नाबार्ड, पशुपालन एवं कृषि विभाग द्वारा राज्य में पशुपालकों व कृषकों के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी जाएगी। प्रदर्शनी में आधुनिकतम तकनीक, नवाचारों के साथ-साथ पशु आहार, खाद, बीज, उर्वरक, विभिन्न कृषि उपकरण, ड्रिप स्प्रिंकलर और सोलर यंत्रों का भी प्रदर्शन किया जाएगा। बैठक में वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. त्रिभुवन शर्मा, अनुसंधान निदेशक प्रो. आर.के. सिंह, छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. एस.सी. गोस्वामी कुलपति के प्रशासनिक सचिव प्रो. बी.आर. श्रृंगी, विशेषाधिकारी प्रो. हेमन्त दाधीच, आत्मा के उप परियोजना निदेशक एस.एल. गोदारा व अमर सिंह गिल, राजुवास अधिकारी सहित विभिन्न समितियों के समन्वयकों ने भाग लिया।

समन्वयक
जनसम्पर्क प्रकोष्ठ