वेटरनरी विश्वविद्यालय में गोल्डन जुबली फोरेज गार्डन का हुआ उद्घाटन

वेटरनरी विश्वविद्यालय में गोल्डन जुबली फोरेज
गार्डन का हुआ उद्घाटन

बीकानेर, 22 दिसम्बर। वेटरनरी विश्वविद्यालय के पशुधन चारा संसाधन प्रबन्धन एवं तकनीक केन्द्र में स्थापित गोल्डन जुबली फोरेज गार्डन का वर्चुअल उद्घाटन भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेषक एवं सचिव (डी.ए.आर.ई.) डाॅ. त्रिलोचन महापात्र ने मंगलवार को किया। इस अवसर पर डाॅ. महापात्र ने कहा कि देष में चारा उत्पादन बढ़ाना एक चुनौतिपूर्ण कार्य है। इसको सफल बनाने के लिए चारा फसलों के उन्नत बीजों की कमी को पूरा करने की कार्य योजना को लागू करना होगा। इस अवसर पर वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने बताया कि फोरेज गार्डन की स्थापना का मुख्य उद्देष्य किसानों में चारा उत्पादन के लिए जागरूकता लाना तथा देष में चारा उत्पादन को बढ़ाना है। इससे विद्यार्थियों, षिक्षकों, किसानों तथा पशुपालकों को विभिन्न चारा फसलों के गुणों, उपयोगिता तथा उत्पादन क्षमता से अवगत करवाया जायेगा। इस कार्यक्रम में उप महानिदेषक (फसल विज्ञान) डाॅ. तिलक राज शर्मा व निदेषक अनुसंधान डाॅ. हेमंत दाधिच शामिल हुए। केन्द्र के प्रमुख अन्वेषक डाॅ. दिनेष जैन ने बताया कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा संचालित आल इंडिया कोआर्डिनेटेड रिसर्च प्रोजेक्ट आन फोरेज क्राॅप्स एण्ड यूटिलाइजेषन की गोल्डन जुबली कार्यक्रम के अन्तर्गत इस फोरेज गार्डन की स्थापना विश्वविद्यालय में की गई है। फोरेज गार्डन में चारा फसलों की एकवर्षीय तथा बहुवर्षीय प्रजातियों को लगाया गया है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रोजेक्ट काॅर्डिनेटर डाॅ. ए.के. राॅय ने बताया कि भारत में कुल 50 गोल्डन जुबली फोरेज गार्डनों की स्थापना की जा चुकी है। कार्यक्रम में देष भर के कृषि एवं वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति, निदेषक तथा अनुसंधानकर्ताओं ने हिस्सा लिया।