वेटरनरी विश्वविद्यालय में उन्नत व जैविक पशुपालन का दो दिवसीय प्रशिक्षण संपन्न

वेटरनरी विश्वविद्यालय में उन्नत व जैविक पशुपालन
का दो दिवसीय प्रशिक्षण संपन्न

बीकानेर, 19 दिसम्बर। वेटरनरी विश्वविद्यालय में “उन्नत पशुपालन-जैविक पशुपालन“ विषय पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शनिवार को संपन्न हो गया। इस प्रशिक्षण में यूनिवर्सिटी सोशल रिस्पोसिबिलिटी के तहत गोद लिए गांव जयमलसर के 27 पशुपालक शामिल हुए। इस प्रशिक्षण का आयोजन प्रसार शिक्षा निदेशालय, राजुवास, बीकानेर के द्वारा किया गया। प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. राजेश कुमार धूड़िया ने बताया कि प्रशिक्षण के दौरान जैविक पशुपालन के महत्व, जैविक चारा उत्पादन, जैव विविधता, जैविक मुर्गी एवं बकरी पालन और जैविक स्वच्छ दुग्ध उत्पादन पर डाॅ. दीपिका गोकलानी, डाॅ. नीरज शर्मा, डाॅ. मनोहर सैन, डाॅ. मोहनलाल चैधरी, डाॅ. अरूण झीरवाल, डाॅ. रजनी अरोड़ा, डाॅ. राजेश नेहरा, डाॅ. विजय कुमार विषय विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गयी। प्रशिक्षण के समापन पर निदेशक प्रसार शिक्षा प्रो. धूड़िया ने सभी प्रशिक्षार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किये। समन्वयक डाॅ. नीरज कुमार शर्मा ने प्रशिक्षणार्थियों को डेयरी और पोल्ट्री फाॅर्म का भ्रमण करवाया। डाॅ. मनोहर सैन ने प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन किया।