वेटरनरी विश्वविद्यालय में वर्ल्ड जूनोसिस डे पर पोस्टर का विमेाचन जूनोटिक बीमारियों से बचाव हेतु विशेष सावधानियां एवं सतर्कता बरतना आवश्यक: कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा

वेटरनरी विश्वविद्यालय में वर्ल्ड जूनोसिस डे पर पोस्टर का विमेाचन
जूनोटिक बीमारियों से बचाव हेतु विशेष सावधानियां एवं सतर्कता बरतना आवश्यक: कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा

बीकानरे, 6 जुलाई। विश्व जूनोसिस (पशुजन्य रोग) दिवस पर वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा द्वारा सोमवार कोे पशु जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार ‘‘पशु जन्य रोगों से बचाव हेतु जागरूकता“ पर एक पोस्टर का विमोचन किया गया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. शर्मा ने बताया कि पूरे विश्व में हर वर्ष 6 जुलाई को जूनोसिस दिवस मनाया जाता है और जनमानस मेें इन रोगों के प्रति जागरूकता फैलाना इसका प्रमुख उद्देश्य है। विश्वभर में 200 से अधिक ऐसी बीमारियां है जो जूनोटिक है जिनसे बचाव हेतु विशेष सावधानियां एवं सतर्कता बरतना आवश्यक है अतः हमें पशुपालकों को जूनोटिक बीमारियों के प्रति जागरूक करके पशुओ में नियमित टीकाकरण करवाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। पशु जन स्वास्थ्य विभाग, वेटरनरी कॉलेज, बीकानेर की प्रभारी डॉ. रजनी जोशी ने बताया कि भारत में होने वाले जूनोटिक रोगों में रेबीज, ब्रुसेलोसिस, बर्डफ्लु, इबोला, निपाह, ग्लैन्डर्स, लेप्टोस्पाइरोसिस, एंथ्रेक्स इत्यादि है। कुछ जूनोटिक रोग सीधे सम्पर्क में आने पर व कुछ रोग वेक्टर जैसे कुत्ते, बिल्ली, चमगादड़, चीचड़, सूकर, घोड़ा इत्यादि के सम्पर्क में आने पर फैलते हैं अतः युवाओं व पशुपालकों को अत्याधुनिक वैज्ञानिक तकनीकों, नवीन अनुसंधान, शुद्ध दूध, मासं एवं अण्डा उत्पादन के प्रति जागरूक करना चाहिए। इस अवसर पर वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह, अधिष्ठाता छात्र कल्याण, प्रो. एस.सी. गोस्वामी, निदेशक एच.आर.डी. प्रो. ए.के. कटारिया, निदेशक अनुसंधान प्रो. हेमंत दाधीच, निदेशक प्रसार शिक्षा प्रो. राजेश कुमार धूड़िया, डॉ. मनोहर सेन एवं डॉ. अशोक डांगी उपस्थित थे।