वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशुओं के आपदा प्रबंधन पर स्टेट रिस्पांस फोर्स के 54 जवानों का प्रशिक्षण सम्पन्न

क्रमांक 42                                                                                              29 जून 2018

वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशुओं के आपदा प्रबंधन पर स्टेट
रिस्पांस फोर्स के 54 जवानों का प्रशिक्षण सम्पन्न

बीकानेर, 29 जून। वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशुओं के आपदा प्रबंधन पर राज्य आपदा रिस्पांस फोर्स के दूसरे बैच के 27 जवानों का दस दिवसीय प्रशिक्षण शनिवार को संपन्न हो गया। पहली बार रिस्पांस फोर्स के जवानों को आपदाओं से पशुओं के बचाव और राहत के तकनीकी तौर-तरीकों पर अब तक फोर्स के 54 जवानों को गहन प्रषिक्षण दिया गया है। प्रषिक्षण के समापन समारोह में संभागियों को प्रमाण पत्र वितरित करते हुए वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. त्रिभुवन शर्मा ने कहा कि आपदा रिस्पांस फोर्स का गठन जान-माल के बचाव और राहत उपायों के लिए किया गया है। दश्ष में इस फोर्स के जवानों का कार्य अन्य बलों के जवानों से अलग है। त्वरित राहत उपायों के लिए तकनीकी प्रशिक्षण कार्यक्रमों से जवानों की कार्यकश्षलता में अभिवृद्धि होगी। इस अवसर पर वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. हेमन्त दाधीच ने कहा कि बाढ़, भूकंप और अन्य विपदाओं से पशुओं का बचाव और उपचार समय की मांग है क्योंकि कीमती पशुधन हमारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था का आधार है। पशुओं के कशल प्रबंधन से आपदा ग्रस्त क्षेत्र में बीमारियों के फैलाव पर भी प्रभावी नियंत्रण संभव होता है। राजुवास के पशु आपदा तकनीकी प्रबंधन केन्द्र के प्रमुख अन्वेषक और प्रशक्षण के प्रभारी डाॅ. प्रवीण बिश्नोई ने बताया कि जवानों के 10 दिवसीय प्रशिक्षण में पशुचिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा 40 व्याख्यान और प्रायोगिक कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। समारोह में पी.बी.एम. अस्पताल के आपदा प्रबंधन के नोडल अधिकारी डाॅ. जी.एस. जोशी, राज्य आपदा रिस्पांस फोर्स के निरीक्षक वसीम भी उपस्थित थे। पशु आपदा तकनकी प्रबंधन केन्द्र के डाॅ. सौहेल मोहम्मद और डाॅ. शैलेन्द्र सिंह प्रशिक्षण कार्यक्रम में सहभागी रहे।

निदेशक