वेटरनरी विश्वविद्यालय में महाराज बिजयसिंह की कांस्य प्रतिमा का लोकार्पण

क्रमांक 1871                                                                                                                     7 फरवरी, 2018

वेटरनरी विश्वविद्यालय में महाराज बिजयसिंह की कांस्य प्रतिमा का लोकार्पण

बीकानेर, 7 फरवरी। महाराजा गंगासिंह ट्रस्ट की अध्यक्षा प्रिन्सेज राज्यश्री कुमारी ने बुधवार को वेटरनरी विष्वविद्यालय में महाराज बिजयसिंह की कांस्य प्रतिमा का अनावरण किया। अनावरण समारोह की अध्यक्षता वेटरनरी विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बी.आर. छीपा ने की। इस अवसर पर प्रिंसेज राज्यश्री कुमारी ने कहा कि महाराज बिजयसिंह भवन पैलेस की नींव तत्कालीन महाराजा गंगासिंह द्वारा रखी गई और निर्माण 1924 में शुरू करके 1929 में यह बनकर तैयार हुआ। 1932 में महाराज बिजयसिंह के निर्वाण के बाद यह पैलेस भवन परोपकार और पषुचिकित्सा सेवाओं के लिए समर्पित किया गया। 1954 में इस पैलेस भवन में वेटरनरी काॅलेज शुरू हुआ। उन्होंने कहा कि वेटरनरी विष्वविद्यालय ने पशुओं की चिकित्सा और शिक्षा के क्षेत्र में देश और दुनिया में अपना विशिष्ट स्थान हासिल किया है। कुलपति प्रो. छीपा ने कहा कि 1954 में बीकानेर के तत्कालीन राजपरिवार ने पैलेस भवन और 200 एकड़ भूमि वेटरनरी महाविद्यालय को उपलब्ध करवाई। उन्होंने कहा कि राज परिवार की उदारता और दूरगामी सोच के कारण राजस्थान के रेगिस्तानी भू-भाग में पशुचिकित्सा सेवाएं और देश-प्रदेश में कुषल मानव संसाधन सुलभ हो रहा है। महाराज की कांस्य प्रतिमा की स्थापना से उनके आदर्षों को याद कर उनका अनुसरण करने की प्रेरणा मिलेगी। पैलेस भवन की स्थापत्य कला और भव्यता सभी को आकर्षित करती है। वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता और संकाय अध्यक्ष प्रो. त्रिभुवन शर्मा ने कहा कि महाराजा गंगासिंह ट्रस्ट द्वारा वेटरनरी काॅलेज को विभिन्न पशुचिकित्सा और उपचार सेवाओं के उपकरण और सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है जिसके लिए हम अत्यंत आभारी हंै। प्रिन्सेज राज्यश्री कुमारी ने वेटरनरी काॅलेज के टी.वी.सी.सी. में पशु उपचार और निदान के लिए ट्रस्ट द्वारा भेंट की गई कलर डाॅप्लर अल्ट्रा साउण्ड मषीन और अल्ट्राॅसोनिक डेन्टल स्टेषन का लोकार्पण किया। समारोह में ट्रस्ट के हनुवंत सिंह, दिलीप सिंह, डीन-डायरेक्टर, फैकल्टी सदस्य, कर्मचारी और छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।
राजुवास में कृषकों की आय बढ़ाने हेतु पशुधन व कुक्कुट के सतत् प्रबंधन पर

निदेशक