वेटरनरी विश्वविद्यालय में जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट निस्तारण पर 55 चिकित्सकों व नर्सिंग कार्मिको का प्रशिक्षण

क्रमांक 776                                                                                                      26 फरवरी, 2020

वेटरनरी विश्वविद्यालय में जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट निस्तारण
पर 55 चिकित्सकों व नर्सिंग कार्मिको का प्रशिक्षण

बीकानेर, 26 फरवरी। जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट के निस्तारण विधियों और संक्रमण से बचाव पर एक दिवसीय प्रशिक्षण बुधवार को वेटरनरी विश्वविद्यालय में आयोजित किया गया। राजुवास के पशु जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट निस्तारण तकनीकी केन्द्र द्वारा आयोजित प्रशिक्षण में 55 जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट उपचार सुविधा (इटेक प्रोजेक्ट) के कर्मचारी, पशुपालन डिप्लोमा संस्थान के विद्यार्थियों और एम.एन. हाॅस्पीटल एवं अनुसंधान केन्द्र के चिकित्सकों और नर्सिंग कर्मचारियों ने भाग लिया। वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. राकेश राव ने प्रशिक्षण का उद्घाटन करते हुए कहा कि बीकानेर में जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट बड़ी मात्रा में उत्पन्न होता है, इसमें कम से कम 20 प्रतिशत अपशिष्ट अत्यंत संक्रामक होते हैं जो पूरे वातावरण को प्रदूषित कर सकते है। इसके कारण मनुष्य और पशु संक्रमित होकर संक्रामक रोगों के प्रसार का कारण बनते हैं अतः हमें इसकी गंभीरता को समझ कर रोकथाम के उपाय करने पडेंगे। माइक्रोबायलाॅजी के प्रो. सुनील मेहरचंदानी ने कहा कि बदलते जलवायु परिवेश और खान-पान के कारण जीवाणु और विषाणु के प्रभावों से नित नए घातक रोगों के कारण जीव-जगत को नित नई चुनौतियां मिल रही है। संक्रामक रोगों से बचाव के लिए स्वच्छ पर्यावरण और जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट का सही निस्तारण करना जरूरी है। पशु जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट तकनीकी निस्तारण केंद्र की प्रमुख अन्वेषक एवं प्रशिक्षण संयोजक डॉ. रजनी जोशी ने एक दिवसीय प्रशिक्षण में अपशिष्ट निस्तारण के प्रायोगिक तौर-तरीकों की जानकारी दी और कहा कि जैविक अपशिष्टों का सुरक्षित निस्तारण नहीं करने से मनुष्य, पशु और पर्यावरण को गंभीर खतरा हो सकता है। डाॅ. प्रवीण बिश्नोई ने एक लघु फिल्म प्रदर्शन करके जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट कितना घातक है और उसके उचित निस्तारण से वातावरण को संक्रमित होने से कैसे बचाया जाए इसकी जानकारी दी। डॉ. मोहम्मद अयूब ने जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट के अनुचित निस्तारण के कारण पर्यावरण संकट और डॉ. मनोहर सेन ने जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट के पृथक्करण की प्रायोगिक जानकारी व डॉ. पंकज मंगल ने पशु जैव चिकित्सकीय अपशिष्ट के निस्तारण के लिए काम में आने वाली तकनीकों का प्रायोगिक प्रदर्शन किया ।

सह-समन्वयक
जनसम्पर्क प्रकोष्ठ