वेटरनरी विश्वविद्यालय में 30 पशुपालकों ने सीखी आय बढ़ाने की उन्नत तकनीकें

क्रमांक 759                                                                             15 फरवरी, 2020

वेटरनरी विश्वविद्यालय में
30 पशुपालकों ने सीखी आय बढ़ाने की उन्नत तकनीकें

बीकानेर, 15 फरवरी। वेटरनरी विश्वविद्यालय के पशुधन चारा संसाधन प्रबन्धन एवं तकनीक केन्द्र और उपनिदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेशक “आत्मा“ के सयुंक्त तत्वावधान में दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। केन्द्र के प्रमुख अन्वेषक डाॅ. दिनेश जैन ने बताया कि “पशुपालन आय में वृद्धि की उन्नत तकनीकें“ विषय पर 14-15 फरवरी को आयोजित इस शिविर में बीकानेर जिले के कुल 30 कृषकों ने भाग लिया। इस शिविर के समापन सत्र में उपपरियोजना निदेशक “आत्मा“, बीकानेर श्री मुकेश गहलोत ने कृषि विभाग की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आय में वृद्धि के लिए कृषि में विविधिकरण को अपनाएं। जिला विकास प्रबन्धक, नाबार्ड के रमेश ताम्बिया ने किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधी योजना तथा नाबार्ड द्वारा संचालित विभिन्न कृषि कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। नेस्ले कम्पनी के क्षेत्रीय प्रबन्धक अहमद फजील तथा क्षेत्रिय अधिकारी, विभोर कुमार सिंह ने भी पशुपालकों को आय में वृद्धि की उन्नत तकनीकों के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षण शिविर में डाॅ. सीताराम गुप्ता, डाॅ. तारा बोथरा, डाॅ. राजेष नेहरा, दिनेष आचार्य एवं महेन्द्र सिंह मनोहर द्वारा व्याख्यान दिये गये। पश्नोत्तरी विजेताओं को पुरस्कार वितरित किए गये जिसमें प्रथम पुरस्कार भूराराम, द्वितीय पुरस्कार हनुमान तथा ततृीय पुरस्कार अशोक कुमार को दिया गया।

सह-समन्वयक
जनसम्पर्क प्रकोष्ठ