वेटरनरी विश्वविद्यालय में बनेगा “हर्बल गार्डन“: कुलपति प्रो. शर्मा

क्रमांक 117                                                                                                                          12 अक्टूबर, 2018

वेटरनरी विश्वविद्यालय में बनेगा “हर्बल गार्डन“: कुलपति प्रो. शर्मा

बीकानेर, 12 अक्टूबर। वेटरनरी विश्वविद्यालय में एक “हर्बल गार्डन“ विकसित किया जाएगा। जिससे इथ्नो-वेटरनरी प्रेक्टिस तथा वैकल्पिक मेडिसिन केन्द्र की अनुसंधान गतिविधियों में तेजी लाई जा सकेगी। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने शुक्रवार को इस केन्द्र के निरीक्षण के दौरान इस आषय के आदेश दिए। वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. त्रिभुवन शर्मा ने बताया कि हर्बल गार्डन पशु पोषण विभाग के परिसर में तैयार किया जाएगा। कुलपति प्रो. शर्मा ने शुक्रवार को राजुवास के पशु विविधिकरण सजीव माॅडल व पोल्ट्री का निरीक्षण किया जहां पर विभिन्न किस्मों के करीब 1300 पक्षियों का पालन किया जा रहा है। इनमें गिनी फाउल, क्वेल, टर्की और एमू प्रमुख हैं। इनमें से पक्षियों को वेटरनरी काॅलेज जयपुर और वल्लभनगर (उदयपुर) भी भेजा जाएगा। पोल्ट्री फाॅर्म में देश-विदेश की 10 प्रजातियों की मुर्गियां है जिनसे वर्तमान में प्रतिदिन 600-700 अंडों का उत्पादन लिया जा रहा है। उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा विकसित “राजुवास स्टेªन“ की उत्पादन क्षमता की सराहना की। कुलपति प्रो. शर्मा ने पशु शरीर रचना विभाग में पशु-पक्षियों के म्यूजियम का भी अवलोकन किया। उन्होंने पशु शरीर कार्यिकी विभाग द्वारा किए जा रहे वैज्ञानिक अनुसंधान कार्यों को उच्च कोटि का बताते हुए यहां विकसित उपकरणों और प्रकाशनों की शैक्षिक कार्यों में उपयोगिता की सराहना की। पशु सूक्ष्म जीव विज्ञान एवं जैव प्रौद्योगिकी विभाग में माॅल्यूकूलर बायो, माइक्रोबायो, बैक्टिरीयोलाॅजी, वायरोलाॅजी, एडवांस्ड माइक्रोबियल आइडेन्टीफिकेशन प्रयोगशालाओं में प्रयुक्त उच्च प्रौद्योगिकी कार्यों की जानकारी ली। एपेक्स सेन्टर और पुस्तकालय की गतिविधियों का भी जायजा लिया। कुलपति प्रो. शर्मा ने पशु जैव रसायन और पशु भैषज एवं विष विज्ञान विभागों की कार्यप्रणाली और प्रगति कार्यों को देखा।

निदेशक