वेटरनरी विश्वविद्यालय महिला पशु साखियों की आय वृद्धि व उन्नत तकनीक पर दो दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न

वेटरनरी विश्वविद्यालय
महिला पशु साखियों की आय वृद्धि व उन्नत तकनीक
पर दो दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न

बीकानेर, 30 जनवरी। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत वेटरनरी विश्वविद्यालय में पशुपालकों की आय वृद्धि की उन्नत तकनीकों पर दो दिवसीय प्रशिक्षण शनिवार को सम्पन्न हो गया। वेटरनरी विश्वविद्यालय के पशुधन चारा संसाधन प्रबंधन एवं तकनीकी केन्द्र एवं उप निदेषक कृषि एवं पदेन परियोजना निदेषक “आत्मा“ बीकानेर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित शिविर में कोलायत व नोखा ब्लाॅक की 30 महिला पशु सखियों ने भाग लिया। शिविर के समापन पर रमेश कुमार व्यास, जिला परियोजना प्रबन्धक, राजीविका, ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में स्वयं सहायता समूहों द्वारा डेयरी उद्योग को सफलतापूर्वक संचालन करने में ऐसे प्रशिक्षण बहुत ही लाभदायक है। प्रशिक्षण के समन्वयक और केन्द्र के प्रमुख अन्वेषक डाॅ. दिनेश जैन ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा पशु आहार निर्माण को लघु उद्योग के रूप में शुरू करना चाहिये। इससे उत्तम गुणवत्ता वाले पशु आहार की उपलब्धता में वृद्धि हो सकेगी तथा महिला समूहों को आर्थिक सम्बल भी मिलेगा। इसके लिए राजुवास द्वारा तकनीकी सहयोग भी दिया जायेगा। कार्यक्रम के प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कुमारी जमना कुमावत, द्वितीय पुरस्कार पुष्पा कंवर तथा तृतीय पुरस्कार रतन कंवर को दिया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रो. जे.एस. मेहता, डाॅ. तारा बोथरा, डाॅ. विजय बिश्नोई, डाॅ. सीताराम गुप्ता, डाॅ. लूणा राम, दिनेश आचार्य एवं महेन्द्र सिंह मनोहर द्वारा तकनीकी जानकारी दी गई।