वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा एक दशक यात्रा पर वेबिनार का आयोजन पशुपालकों व किसानों के लिए वेटरनरी विश्वविद्यालय की सेवाएं हितकारी: राज्यपाल कलराज मिश्र

वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा एक दशक यात्रा पर वेबिनार का आयोजन
पशुपालकों व किसानों के लिए वेटरनरी विश्वविद्यालय की
सेवाएं हितकारी: राज्यपाल कलराज मिश्र

बीकानेर, 18 मई। राज्यपाल एवं वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री कलराज मिश्र के मुख्य आतिथ्य में वेटरनरी विश्वविद्यालय के दस वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में वेबिनार का आयोजन किया गया। सोमवार को आयोजित आॅनलाइन संगोष्ठी में देश के अनेक विश्वविद्यालयों के कुलपति, वैज्ञानिकों, शिक्षकों, विश्वविद्यालय अधिकारियों, किसानों, पशुपालकों और विद्यार्थियों ने इसमें शिरकत की। इस अवसर पर अपने सम्बोधन में राज्यपाल श्री मिश्र ने कहा कि स्थापना के दस वर्षों में राजुवास ने पशुचिकित्सा में अनुसंधान व प्रसार शिक्षा के साथ सामाजिक सराकारों के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर उपलब्धियों अर्जित की है। इस संस्थान ने राजस्थान राज्य में ही नहीं अपितु पूरे देश में अपना विशिष्ट स्थान बनाया है। यह विश्वविद्यालय पशुचिकित्सा शिक्षा और वैज्ञानिक पशुपालन की प्रेरणा की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। राज्यपाल ने विश्वास जताया कि विश्वविद्यालय के शैक्षणिक व प्रशिक्षण कार्य राज्य के किसानों और पशुपालकों के लिए उपयोगी और प्रेरणादायी होंगे। राजुवास के कुलाधिपति ने अपने उद्बोधन में कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा ई-सुशासन के तहत किए गए कार्यों से देश के अन्य विश्वविद्यालय भी आकर्षित हुए हैं। उन्होंने राजुवास के शैक्षणिक नवाचारों, पशु रोग निदान और उपचारों तकनीकों और पशुपालकों को उन्नत पशुपालन के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की सराहना की। वेबिनार के प्रारंभ में वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने स्वागत भाषण दिया और राजुवास के दस वर्ष के कार्यों और उपलब्धियों को प्रस्तुत किया। कुलपति प्रो. शर्मा ने राजुवास को पशुचिकित्सा के “सेन्टर आॅफ एक्सीलेंस“ के रूप में विकसित अनुसंधान और शिक्षण के नवाचारों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने राज्य के पशुधन और पशुपालकों के हित में किए जा रहे कार्यों और योजनाओं की जानकारी साझा की। कुलपति ने कोविड-19 की विपरीत परिस्थितियों में भी शिक्षण और पशुपालन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। कुलपति प्रो. शर्मा ने महाविद्यालयों में स्मार्ट क्लास रूम, वर्चुअल क्लासेज, सेल्फ सर्विस पोर्टल, देशी गौवंश संरक्षण और दुग्ध उत्पाद केन्द्रों, जैविक पशु उत्पाद, पशु आहार में आत्मनिर्भरता, पशुधन कौशल विकास एवं उद्यमिता विश्वविद्यालय अनुसंधान के पेटेन्ट उपायों की जानकारी दी। राजुवास के संस्थापक कुलपति प्रो. ए.के. गहलोत ने भी वेबिनार में विचार व्यक्त करते हुए कहा कि राजुवास ने अल्प समय में उपलब्धियां अर्जित की है। ई-लर्निंग में भी यह विश्वविद्यालय तेजी से आगे बढ़ेगा। राज्यपाल ने वेबिनार में वेटरनरी विश्वविद्यालय के जनसम्पर्क प्रकोष्ठ द्वारा प्रकाशित “राजुवास-स्वर्णिम दशक“ स्मारिका, जैविक पशुपालन पर एक रंगीन पोस्टर और राजुवास ई-बुलेटिन के नवीन अंक का विमोचन किया। डेढ़ घंटे तक चली वेबिनार में “राजुवास द्वारा विकसित तकनीकों“ विषय पर एक लघु फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया। दशाब्दी वर्ष के तहत विद्यार्थियों की आॅनलाइन क्विज प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा की गई। वेबिनार में देश के अनेक विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, राजुवास के कुलसचिव अजीत सिंह, वित्त नियंत्रक अरविन्द बिश्नोई सहित राजुवास के डीन-डायरेक्टर, शिक्षकों, कर्मचारियों और विद्यार्थियों ने राजुवास वेबसाइट, फेसबुक पेज और किसान पशुपालकों ने मोबाइल एप पर वेबिनार को देखा और सुना। इस वेबिनार का सीधा प्रसारण विश्वविद्यालय की वेबसाइट और फेसबुक पर किया गया जो कि 18 हजार 810 लोगों तक पहुँचा। लगभग 7300 लोगों ने इसे देखा और सुना तथा 4200 ने लोगों ने अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की। वेटरनरी काॅलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह ने वेबिनार के अंत में धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो. हेमन्त दाधीच ने किया। वेबिनार के आयोजन प्रो. राजेश कुमार धूड़िया, विशेषाधिकारी कुलपति एवं डाॅ. अशोक डांगी, प्रभारी, आई.यू.एम.एसकृप्रकोष्ठ के संचालन में हुआ।
वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा केरियर वेबिनार श्रृंखला का आयोजन कल
बीकानेर, 18 मई। वेटरनरी विश्वविद्यालय में दशाब्दी वर्ष के तहत विद्यार्थियों के लिए वेबिनार श्रृंखला का आयोजन किया जाएगा। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने बताया कि 19 मई से इस श्रृंखला में देश-विदेश के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत पूर्व छात्र (एल्यूमिनाई) पशुचिकित्सा में केरियर से संबंधित व्याख्यान प्रस्तुत करेंगे। इस कड़ी में प्रथम वेबिनार 19 मई को 11 बजे आयोजित की जाएगी जिसका विश्वविद्यालय के अधिकारिक फेसबुक पेज पर लाइव प्रसारण होगा।