वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए गाढवाला में नशा मुक्ति संगोष्ठी का हुआ आयोजन

वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए
गाढवाला में नशा मुक्ति संगोष्ठी का हुआ आयोजन

बीकानेर, 27 मार्च। वेटरनरी विश्वविद्यालय सोशल रिस्पांसिबिलिटी के अर्न्तगत गाढवाला गांव में नशा मुक्ति अभियान के तहत संगोष्ठी का आयोजन किया गया। वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. राजेश कुमार धूड़िया ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि नशे की प्रवृत्ति समाज के लिए एक अभिशाप बन गई है। युवाओं के नशे के आदी होने के कारण मानसिक, पारिवारिक और सामाजिक स्तर पर बहुत बुरा असर पड़ता है तथा परिवार को भी आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लोगों में चेतना और जन सहभागिता से ही इस सामाजिक बुराई को मिटाया जा सकता है। नापासर के थानाधिकारी जगदीश पांडर ने बताया कि नशे के कारण सामाजिक समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। खासतौर पर युवा पीढ़ी को इसके दुष्परिणामों को समझकर इस प्रवृत्ति से दूर रहना होगा। चिकित्सा विभाग के डॉ. कुलदीप यादव ने नशे से दूर रहने हेतु चिकित्सीय उपचार के साथ-साथ जिला स्तरीय चिकित्सालयों में नशा मुक्ति केन्द्र के बारे में जानकरी दी। सरपंच प्रतिनिधि मोहनलाल ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम के समन्वयक डॉ. नीरज कुमार शर्मा ने कार्यक्रम का संचालन किया। गोष्ठी में ग्रामीण और बड़ी संख्या में युवा शामिल हुए।