वेटरनरी विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र की वैज्ञानिक सलाहाकार समिति की पांचवीं बैठक सम्पन्न

क्रमांक 2017                                                                                                                  8 मार्च, 2018

वेटरनरी विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र की वैज्ञानिक
सलाहाकार समिति की पांचवीं बैठक सम्पन्न
केन्द्र की गतिविधियों से पशुपालन और कृषि में नवीन
तकनीकों का किसानों को मिल रहा लाभः
प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. सिंह

बीकानेर, 8 मार्च। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र, नोहर की पांचवीं वैज्ञानिक सलाहाकार समिति की बैठक गत बुधवार को पंचायत समिति नोहर के सभागार में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता राजुवास के प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. ए.पी. सिंह ने की। बैठक के मुख्य अतिथि पंचायत समिति नोहर के प्रधान श्री अमर सिंह पूनिया ने कहा कि केन्द्र की गतिविधियों से क्षेत्र के किसानों को अत्यंत लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्र की गतिविधियों को लोकप्रिय बनाने के लिए प्रचार-प्रसार कार्यों को सघन तरीके से लागू किया जाए। श्री पूनिया ने किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड की महत्ता के साथ-साथ मधुमक्खी व कुक्कुट पालन, डेयरी और मशरूम उत्पादन जैसे कृषि के सहायक व्यवसायों का प्रशिक्षण देकर किसानों व युवाओं को स्वालम्बन बनाये जाने की महत्ती आवष्यकता जताई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रसार षिक्षा निदेषक प्रो. ए.पी. सिंह ने कहा कि केन्द्र की गतिविधियों से क्षेत्र के किसान और पशुपालकों को नवीन तकनीकांे का लाभ मिल रहा है। उन्होंने बारानी क्षेत्र में खेजड़ी व केर की महत्ता को इंगित करते हुए वृक्षारोपण कार्यों पर जोर दिया। उन्होंने विष्वविद्यालय के “धींणे री बात्यां“ रेडियो कार्यक्रम और टोल फ्री हैल्पलाइन नम्बर 18001806224 के माध्यम से गांव, ढांणी और विद्यालयों तक प्रसार की आवश्यकता बताई। मासिक पत्रिका “पशुपालन नये आयाम“ का प्रकाशन किसानों के हित में किया जा रहा है। क्षेत्रीय अनुसंधान निदेशक डाॅ. उम्मेद सिंह ने पशुपालन को कृषि के साथ-साथ करने की आवश्यकता जताई। कृषि के उपनिदेशक श्री जयनारायण बेनीवाल ने जलवायु परिवर्तन के अनुकूल खेती से जुड़ी महिलाओं को प्रशिक्षण पर जोर दिया। डाॅ. अनूप कुमार ने स्वयं सहायता समूहों को केन्द्र की गतिविधियो से जोड़ने को आह्वान किया। बैठक में डाॅ. हनुमानराम, डाॅ. अषोक कुमार और मुंषीराम ने भी अपने विचार व्यक्त किये। बैठक के प्रारम्भ में कार्यक्रम समन्यवक डाॅ. कुलदीप नेहरा ने स्वागत उद्बोधन दिया। केन्द्र के शस्य विषेषज्ञ श्री भैरू सिंह चैहान, पशुपालन विषेषज्ञ डाॅ. नवीन सैनी, कृषि प्रसार विषेषज्ञ डाॅ. अक्षय सिंह घिंटाला, उद्यान विषेषज्ञ मुकेष कुमार वर्मा और गृह विज्ञान की विषेषज्ञ अंजली शर्मा ने विषय का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत कर आगामी कार्य योजना सदन में रखी। बैठक में सहायक प्राध्यापक डाॅ. मनोहर लाल सैन, शस्य विषेषज्ञ डाॅ. चन्द्रषेखर शर्मा, कृषि उपज मण्डी से श्री कृष्ण चन्द्र कड़वासरा सहित प्रगतिषील किसान श्री लाल सिंह बेनीवाल, श्री अजय कुमार, श्री मकबूल, श्री रामकुमार खिचड़, श्री नरेष कुमार और हनुमान उपस्थित रहे। मंच संचालन डाॅ. नवीन सैनी ने किया और डाॅ. अक्षय घिंटाला ने सभी का आभार जताया।

निदेशक