राजुवास में 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन

राजुवास में 74वें स्वतंत्रता दिवस  समारोह का आयोजन

वेटरनरी विश्वविद्यालय
कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा द्वारा ध्वजारोहण और सलामी  
सघन पौधारोपण अभियान के तहत 5100 पौधे किए रोपित

बीकानेर, 15 अगस्त। स्वाधीनता दिवस पर वेटरनरी विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने दीवान-ए-आम में ध्वजारोहण कर सलामी दी। इस अवसर पर कुलपति प्रो. शर्मा ने स्वंतत्रता सेनानियो और शहीदों का स्मरण कर देष को मजबूत और खुषहाल बनाने के लिए सभी को प्राण-प्रण से जुटने का आह्वान किया। इस अवसर पर कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने सम्बोधित करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय को ई-गर्वनेन्स राजस्थान अवार्ड प्रदान कर सर्वोत्कृष्ट कार्य को सराहा गया है। राज्य सरकार के निर्देशानुसार 4 हजार किसानों व पशुपालकों को वेटरनरी विश्वविद्यालय में उन्नत पशुपालन का प्रशिक्षण दिया जाएगा। विश्वविद्यालय के दशाब्दी वर्ष में डिकेड इनीशिएटिव के तहत उल्लेखनीय उपलब्धियां अर्जित की गई हैं। हमारे अनुसंधान व पशु उत्पादों को जैविक मोड पर लाए जाने और पैटेन्ट करवाने का कार्य किया जा रहा है। अर्न्तराष्ट्रीय प्रमाणीकरण और राजस्थान जैविक प्रमाणीकरण संस्थाओं के माध्यम से उपजाऊ भूमि और गाय-बकरियों को इसमें शामिल किया गया है। इस वर्ष राजुवास परिसर में विद्यार्थियों के लिए जिम्नेजियम और परीक्षा भवन का निर्माण कर अतिथि गृह व फैकल्टी हाउस का पुनरूद्धार किया गया है। राज्य के 19 जिलों में विश्वविद्यालय द्वारा पशुचिकित्सा सेवाएं, उन्नत पशु व वैज्ञानिक पशुपालन के प्रशिक्षण का कार्य पूरी शिद्दत के साथ किया जा रहा है। 14 जिलों के 16 हजार किसान-पशुपालकों को ऑनलाइन राजुवास से जोड़ा गया है। इस वर्ष ग्रामीण क्षेत्र में 989 पशुपालन शिविरों का आयोजन कर 25 हजार से भी अधिक पशुपालकों को लाभान्वित किया गया। हैरिटेज जीन बैंक के तहत 3 हजार उन्नत नस्ल के बछड़े-सांड प्रगतिशील पशुपालक व गौशालाओं को सुलभ करवाए गए। देश के ख्यातनाम संस्थानों से इस वर्ष 8 आपसी करार कर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान कार्यों में सहयोग का एक नया आयाम स्थापित किया गया। कोविड-19 के मद्देनजर वर्चुअल क्लास, अध्ययन के साथ-साथ 6 ऑनलाइन वेबिनार और सत्त पशुचिकित्सा शिक्षा के 4 प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए गए। समारोह में शैक्षणिक, सांस्कृतिक गतिविधियों, एन.सी.सी. और कोरोना वारियर्स के रूप में अर्जित उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए विश्वविद्यालय के 37 छात्र-छात्राओं की सराहना की। 9 अशैक्षणिक कर्मचारियों को उत्तम सेवा और कार्य, शिक्षण व अनुसंधान में विशिष्ट कार्यों के लिए 25 शिक्षकों व वैज्ञानिकों के नामों की घोषणा की। विश्वविद्यालय में शिक्षण, अनुसंधान और प्रसार शिक्षा में उल्लेखनीय कार्यों के लिए विश्वविद्यालय के 5 संस्थानों व इकाईयों के नाम घोषित कर सराहना की गई। विश्वविद्यालय में उत्कृष्ट कार्य प्रदर्शन के लिए 9 शिक्षकों व अधिकारियों को कुलपति अवार्ड  के लिए नामित किया गया। इनमें कुलसचिव अजीत सिंह, वित नियंत्रक अरविंद बिश्नोई, छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रो. एस.सी. गोस्वामी, अधिष्ठाता पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर प्रो. संजीता शर्मा, विशेषाधिकारी प्रो. आर.के. धूड़िया, निदेशक मानव संसाधन विकास प्रो. अनिल कुमार कटारिया, नोडल अधिकारी आई.सी.ए.आर. प्रो. सुनील मेहरचंदानी, प्रभारी आई.यू.एम.एस. डॉ. अशोक डांगी और सम्पर्क अधिकारी डॉ. जी.एस. गौतम को उत्कृष्ट कार्य प्रदर्शन के लिए कुलपति अवार्ड की घोषणा की गई। समारोह में विश्वविद्यालय के कुलसचिव, वित नियंत्रक डीन-डायरेक्टर, अधिकारी, शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित थे।

माननीय राज्यपाल एवं कुलाधिपति के निर्देशानुसार
राजुवास में सघन पौधारोपण अभियान के तहत 5100 पौधे किए रोपित

स्वाधीनता दिवस पर माननीय राज्यपाल एवं कुलाधिपति के निर्देशानुसार वेटरनरी विष्वविद्यालय मुख्य परिसर बीकानेर सहित राज्य के 19 जिलों में स्थित संस्थानों और संस्थाओं में 5100 पौधे रोपित कर सघन पौधारोपण किया गया। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने अशोक का पौधा लगाकर पौधारोपण कार्यक्रम की शुरूआत की। पौधारोपण कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के कर्मचारियों, शिक्षकों व अधिकारियों ने बड़े उत्साह में शामिल होकर नीम, करंज, अशोक, शीशम के पौधे रोपित किए एवं इनकी नियमित देखभाल एवं रक्षा का प्रण लिया। कुलपति ने पौधारोपण कार्यक्रम की सफलता और भविष्य में देखरेख के लिए 6 सदस्यीय समिति का भी गठन किया है। सघन पौधारोपण अभियान के तहत राजुवास के बीकानेर परिसर में शिक्षकों, अधिकारियों और कर्मचारियों ने विभिन्न विभागों और इकाईयों में 500 पौधे रोपित किये। स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, जयपुर व वेटरनरी कॉलेज, नवानियां, उदयपुर में 500-500 पौधे रोपित किये गए। प्रसार शिक्षा निदेशालय के तहत राज्य के 14 जिलों में स्थित पशुचिकित्सा विश्वविद्यालय प्रशिक्षण एवं अनुसंधान केन्द्रों पर 800 पौधे तथा अनुसंधान निदेशालय के अंतर्गत 8 पशुधन अनुसंधान केन्द्रों पर 2 हजार 500 पौधे रोपित किये गए। राज्य में तीन सम्बद्ध निजी महाविद्यालय में भी 100-100 पौधे रोपित किये गए।

जयपुर, 15 अगस्त। स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान
(पी.जी.आई.वी.ई.आर.), जयपुर में 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन 

प्रो. (डाॅ.) शीला चैधरी, कार्यवाहक अधिष्ठाता एवं विभागाध्यक्ष, पशु पोषण विभाग द्वारा संस्थान के मानसरोवर एवं जामडोली स्थित परिसर में झण्डारोहण किया गया। इस अवसर पर समस्त शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक कर्मचारियों ने कोविड-19 के विभिन्न दिशा-निर्देशों जैसे सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क एवं सेनेटाईजेषन का उपयोग आदि का पालन करते हुए उत्साहपूर्वक भाग लिया।
कार्यवाहक अधिष्ठाता ने सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए अपने उद्बोधन में भारत के स्वाधीनता संग्राम के शहीदों की कुर्बानियों को नमन किया। उन्होंने बताया कि जहां पूरा विष्व कोविड-19 महामारी से जूझ रहा है, वहीं हमारा देश इस महामारी के साथ-साथ अपने पड़ोसी देशों के विश्वासघात का भी उचित जवाब दे रहा है। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस के इस सुअवसर पर कोविड रक्षकों तथा देष की सुरक्षा में लगे सैनिकों को धन्यवाद दिया। संस्थान द्वारा प्राप्त की गई उपलब्धियों का वर्णन करते हुए उन्होंने बताया कि संस्थान को भारतीय पशुचिकित्सा परिषद् की पहली अनुसूची में शामिल कर लिया गया है जो हमारे लिये बहुत ही गर्व की बात है। फरवरी माह में संस्थान के पषुधन उत्पादन प्रबन्धन विभाग ने राष्ट्रीय सेमिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया जिसमें देष के विभन्न प्रदेषों से लगभग 516 प्रतिभागियों ने भाग लिया। आगे उन्होंने बताया कि संस्थान को इस वर्ष तीन नई परियोजाएं प्राप्त हुई हैं। महात्मा गाँधी नेषनल काॅउन्सील आॅफ रूरल एजुकेषन, उच्च षिक्षा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा संस्थान को स्वच्छता एक्शन प्लान संस्थान के रूप में मान्यता प्रदान की गई है। विद्यार्थियों की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि प्रथम वर्ष को छोड़कर सारे वर्षो में विद्यार्थियों की 100 प्रतिशत उत्तीर्णता रही है तथा विश्वविद्यालय स्तर पर मेधा सूची में प्रथम पाँच स्थानों पर हमारे संस्थान के तीन विद्यार्थियों ने स्थान पाया है। उन्होंने संकाय सदस्यों द्वारा विभिन्न संगोष्ठियों में अर्जित उपलब्धियों की विस्तारपूर्वक जानकारी साझा की तथा उन्हें शुभकामनाएं दी।
स्वतंत्रता दिवस के इस सुअवसर पर डाॅ. मंजू तथा डाॅ. विकास गालव ने देष-भक्ति गीत प्रस्तुत कर सभी को मंत्र-मुग्ध कर दिया। मंच का संचालन डाॅ. रष्मि सिंह व कार्यक्रम डाॅ. वाई.पी. सिंह, सहायक अधिष्ठाता छात्र कल्याण के निर्देशन में सम्पन्न हुआ। झण्डारोहण के पष्चात् संस्थान के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा संस्थान परिसर में वृक्षारोपण किया गया।