राजुवास में जैव विविधता संरक्षण पर 20 कृषि विभाग के अधिकारियों और पर्यवेक्षकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न

क्रमांक 1854                                                                                                   22 जनवरी, 2018

राजुवास में जैव विविधता संरक्षण पर 20 कृषि विभाग के अधिकारियों और पर्यवेक्षकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न

बीकानेर, 22 जनवरी। “पशु जैव विविधता का संरक्षण एवं उसके महत्व“ पर कृषि अधिकारियों और कार्मिकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण सोमवार को वेटरनरी विश्वविद्यालय में सम्पन्न हो गया। समापन समारोह के मुख्य अतिथि वेटरनरी विश्वविद्यालय के प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. ए.पी. सिंह ने प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए। राजुवास के पशु जैव विविधता संरक्षण केन्द्र के प्रमुख अन्वेषक डाॅ. मोहन लाल चैधरी ने बताया कि प्रशिक्षण में कृषि विभाग के 20 कृषि एवं सहायक अधिकारियों और पर्यवेक्षकों ने शिरकत की। इस अवसर पर प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. ए.पी. सिंह ने कहा कि वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा किसान और पशुपालकों की आय को बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों और देशी गौ संवर्द्धन कार्यों को जिला स्तर तक विस्तार किया गया है। विश्वविद्यालय स्तर पर और 15 जिलों में वेटरनरी विश्वविद्यालय द्वारा स्थापित प्रशिक्षण एवं अनुसंधान केन्द्रों पर निःशुल्क प्रशिक्षण की सुविधाएं दी गई है। उन्होंने कृषि अधिकारियों को आह्वान किया कि वे विश्वविद्यालय के टोल-फ्री हैल्प लाइन, मासिक पत्रिका पशुपालन नए आयाम, रेडियो कार्यक्रम “धींणे री बात्यां“ जैसे कार्यों को किसान और पशुपालकों तक पहुँचाएं जिससे उसका लाभ मिल सके। डाॅ. विजय कुमार चैधरी और डाॅ. विजय कुमार बिश्नोई ने सम्बोधित किया।

निदेशक