पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर “वार्षिक दिवस” तथा “विश्व पशुचिकित्सा दिवस” पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन

No.: 04/2018                                                                                              Date: 28.04.2018

पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर “वार्षिक दिवस” तथा “विश्व पशुचिकित्सा दिवस” पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन

जयपुर, 28 अप्रेल। स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (पी.जी.आई.वी.ई.आर.), जयपुर में दिनांक 28.04.2018 को “संस्थान के वार्षिक दिवस” तथा “विश्व पशुचिकित्सा दिवस” के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डाॅ. राजेश शर्मा, आई.ए.एस. तथा विशिष्ट अतिथि राजस्थान पशुधन विकास बोर्ड के सी.ई.ओ. डाॅ. शैलेश शर्मा थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. (डाॅ.) विष्णु शर्मा, अधिष्ठाता, पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर ने की। सर्वप्रथम इस अवसर पर प्रातः काल में निःषुल्क रेबीज टीकाकरण व चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया जिसका उदघाटन प्रो. (डाॅ.) विष्णु शर्मा, अधिष्ठाता ने किया। इस शिविर में विभिन्न नस्लों के 70 श्वानों का रेबीज रोग के लिये निःषुल्क टीकाकरण तथा स्वास्थ्य जाँच किया गया। श्वान मालिकों को उनके रखरखाव, भोजन, रोगों आदि से संबंधित विभिन्न विषयों के बारे में वेटेनरी क्लिनिकल काॅम्प्लेक्स के चिकित्सकों द्वारा विस्तृत सलाहकार सेवाएं तथा जानकारियाँ प्रदान की गई। तत्पष्चात् विद्यार्थियों के लिये प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। विश्व पशुचिकित्सा दिवस की थीम “The role of veterinary profession in sustainable development to improve livelihood, food security and safety” विषय पर डाॅ. अनुराग पाण्डे, सहायक आचार्य ने सेमीनार प्रस्तुत किया। इस अवसर पर संस्थान के विद्यार्थियों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें विद्यार्थियों ने गीत, नृत्य तथा लघु नाटिका प्रस्तुत कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस अवसर पर आयोजित किये गये पोस्टर प्रतियोगिता, प्रश्नोत्तरी व इलोकेशन के विजेताओं तथा संस्थान के वार्षिक खेलकूद एवं सांस्कृतिक सप्ताह के दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं तथा वर्ष भर आयोजित अन्य प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। अधिष्ठाता महोदय ने अपने संबोधन में सभी आगन्तुकों का स्वागत करते हुए विष्व पषुचिकित्सा दिवस की बधाई दी। उन्होनें विद्यार्थियों को उनके उत्कृष्ट प्रदर्षन के लिये बधाई दी तथा समाज के लिये पषुचिकित्सा व्यवसाय के महत्व के बारे में विस्तार से चर्चा की। मुख्य अतिथि ने अपने संबोधन में हमारे आजीविका तथा खाद्य सुरक्षा में पशुचिकित्सा व्यवसाय की भूमिका के बारे में चर्चा करते हुए बताया कि यह व्यवसाय समाज के सबसे कमजोर तबके से लेकर सबसे उच्च श्रेणी के लोगों से

जुड़ा हुआ है। उन्होनें संस्थान के उत्कृष्ट प्रदर्षन के लिये अधिष्ठाता तथा संकाय सदस्यों को बधाई दी तथा इस संस्थान के उज्जवल भविष्य की कामना की। विशिष्ट अतिथि ने भी अपने संबोधन में पशुचिकित्सा व्यवसाय की महत्वता के बारे में चर्चा करते हुए समाज के लिये उनकी भूमिका पर प्रकाश डाला। वे विद्यार्थियों के शैक्षणिक उपलब्धियों तथा सांस्कृतिक गुणों से बहुत प्रभावित हुए। कार्यक्रम में संस्थान के सभी शैक्षणिक एवं गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों के साथ-साथ विद्यार्थियों तथा पशुपालन विभाग के पशुचिकित्सकों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। कार्यक्रम के अन्त में डाॅ. वाई.पी. सिंह, सहायक अधिष्ठाता छात्र कल्याण, पी.जी.आई.वी.ई.आर. ने आगन्तुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

(Sd/-)
अधिष्ठाता