पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर में विद्यार्थियों के लिये “Opportunities for Veterinarians in Private Sector” विषय पर प्रेरक व्याख्यान

No.: 03/2018                                                                                           Date: 09.04.2018

पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर में विद्यार्थियों के लिये “Opportunities for Veterinarians in Private Sector” विषय पर प्रेरक व्याख्यान

जयपुर, 09 अप्रेल। स्नातकोत्तर पशुचिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (पी.जी.आई.वी.ई.आर.), जयपुर में सोमवार को विद्यार्थियों को पषुचिकित्सा षिक्षा के वृहत् आयामों के प्रति जागरूक करने के लिये श्व्चचवतजनदपजपमे वित टमजमतपदंतपंदे पद च्तपअंजम ैमबजवतश् विषय पर एक प्रेरक व्याख्यान का आयोजन किया गया। यह व्याख्यान डाॅ. दिनेश भोसले, रीजनल सेल्स डायरेक्टर, ।ठ टप्ैज्। ैवनजी ।ेपंए च्नदम द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में कर्नाटक पषुचिकित्सा एवं मत्स्य विज्ञान विश्वविद्यालय के पूर्व एवं संस्थापक कुलपति प्रो. आर.एन..एस. गौवड़ा भी उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे संस्थान के अधिष्ठाता प्रो. (डाॅ.) विष्णु शर्मा ने पुष्पगुच्छ प्रदान कर उनका स्वागत करते हुए संस्थान के इतिहास एवं गतिविधियों के बारे में संक्षेप में बताया तथा संकाय सदस्यों से परिचय करवाया। प्रो. गौवड़ा ने अपने उद्बोधन में बताया कि पषुचिकित्सा के क्षेत्र में अपार सम्भावनाएं हैं तथा यह सिर्फ पशुओं के उपचार तक ही नहीं सीमित है। उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि पशुचिकित्सा षिक्षा पूरी करने के बाद आप नौकरी खोजने नहीं अपितु प्रदान करने वाले बनें। उन्होंने पशुचिकित्सा के विभिन्न क्षेत्रों के अपने अनुभव भी साझा किये। डाॅ. दिनेष भोसले ने निजी क्षेत्रों में पषुचिकित्सकों के लिये उपलब्ध विभिन्न अवसरों के बारे में विस्तारपूर्वक चर्चा की। उन्होंने बताया कि हमें षिक्षा के शरूआती समय में ही अपने लक्ष्य का निर्धारण कर लेना चाहिये तथा उसे प्राप्त करने के लिये पूरे जुनून के साथ आगे बढ़ना चाहिये। उन्होंने विद्यार्थियों के विभिन्न संकाओं का निराकरण भी किया। इस कार्यक्रम में स्नातक तृतीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर विद्यार्थियों के साथ-साथ संकाय सदस्यों ने भी भाग लिया। यह कार्यक्रम डाॅ. वाई.पी. सिंह, सहायक अधिष्ठाता छात्र कल्याण की देखरेख में आयोजित किया गया।

(Sd/-)
अधिष्ठाता