जल्द ही पकडे़गा रफ्तार के.वी.के. नोहर, बजट होगा जल्द पारित के.वी.के. नोहर की चतुर्थ वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक सम्पन्न

जल्द ही पकडे़गा रफ्तार के.वी.के. नोहर, बजट होगा जल्द पारित
के.वी.के. नोहर की चतुर्थ वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक सम्पन्न

नोहर, 17 मार्च। कृषि विज्ञान केन्द्र, नोहर की चतुर्थ वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक शुक्रवार (17 मार्च 2017) को पंचायत समिति नोहर के पंचायत भवन परिसर में सम्पन्न हो गई मुख्य अतिथि के रूप में पधारे राजुवास (राजस्थान पषुचिकित्सा और पषु विज्ञान विष्वविद्यालय), बीकानेर के कुलपति प्रो.(डाॅ.)कर्नल ए.के. गहलोत ने कहा कि केन्द्र के माध्यम से ़क्षेत्र के कृषक-पषुपालकों को नवीनतम तकनीकी का लाभ मिल सके इसके लिये उच्च स्तर पर प्रयास जारी हंै, इसके साथ ही सम्बन्धित विभागों की विभिन्न योजनाओं की जानकारी का भी सीधा लाभ कृषक पषुपालकों तक पहुंचे। उन्होंने विष्वविद्यालय के रेडियो कार्यक्रम “धीणे री बात्यां“, मासिक पत्रिका “पषुपालन नये आयाम“ एवं टोल फ्री हेल्प लाईन नम्बर 18001806224 के माध्यम से विष्वविद्यालय से जुड़ने पर जोर दिया। कार्यक्रम के विषिष्ट अतिथि श्री अमरसिंह पूनियां प्रधान पंचायत समिति नोहर ने केन्द्र द्वारा पषुपालन में अजोला एवं साईलेज तकनीक के प्रसार सम्बन्धी किये जो रहे प्रयासों की प्रषंसा की। बैठक के दौरान निदेषक प्रसार षिक्षा राजुवास, बीकानेर एवं कार्यक्रम समन्वयक केविके नोहर प्रो. राजेष कुमार धूड़िया ने केन्द्र की वर्ष 2016-17 की वार्षिक प्रतिवेदन एवं वर्ष 2017-18 की कार्य योजना प्रस्तुत की। तत्प्ष्चात केन्द्र के कृषि प्रसार विषेषज्ञ श्री अक्षय घिंटाला एवं पषुपालन विषेषज्ञ डाॅ. नवीन सैनी ने अपने विषय सम्बन्धित प्रतिवेदन एवं कार्य योजना को विस्तार से प्रस्तुत किया जिस पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अटारी जोधपुर से पधारे वैज्ञानिक डाॅ. राजीव काले ने समीक्षा की एवं सम्बन्धित विभागों से पधारे अधिकारीगण एवं प्रगतिषील किसानों के साथ विचार विमर्ष किया गया। संयुक्त निदेषक, पषुपालन हनुमानगढ डाॅ. सुभाष गोदारा ने बताया की क्षेत्र में पशुपोषण एवं आहार सम्बन्धित समस्या को केन्द्रित कर विभागीय एवं विष्वविद्यालय स्तर पर प्रयास किये जा सकते हैं। सहायक निदेषक (कृषि विस्तार) नोहर श्री बलबीर खाती एवं केवीके संगरिया के डाॅ’ अनूप कुमार ने कृषि सम्बन्धित सुझाव दिये। बैठक में कुल 48 सदस्यों ने भाग लिया जिनमें क्षेत्र के 10 प्रगतिषील कृषक पषुपालक भी सम्मिलित हुए। जिन्होंने केन्द्र से जुडे़ रहकर नवाचार को अपनाकर सफल प्रयासों की जानकारी दी।
कार्यक्रम के दौरान केन्द्र के वैज्ञानिकों द्वारा लिखित दो पुस्तिकाओं “ग्वार की उन्नत खेती’’ एवं “मधुमक्खी पालन – एक लाभकारी व्यवसाय“ का विमोचन अतिथियों के कर कमलों द्वारा किया गया। विषिष्ट अतिथि उपखण्ड अधिकारी नोहर श्री भानीराम ने अपने उदबोधन में केन्द्र के कार्यों की सराहना की। विष्वविद्यालय से निदेषक अनुसंधान प्रो. राकेष राव, पषुधन अनुसंधान केन्द्र प्रभारी प्रो. राजीव जोषी एवं डाॅ. कुलदीप नेहरा, आरएसएससी प्रबन्धक श्री मुन्षीराम, आत्मा से बी.आर. बाकोलिया, आरएसडब्ल्यूसी प्रबन्धक वजीर सिंह, केवीके नोहर के शस्य विज्ञान विषेषज्ञ श्री भैरूसिंह चैहान आदि उपस्थित रहे। मंच संचालन केवीके वैज्ञानिक एवं पषुपालन विषेषज्ञ डाॅ. नवीन सैनी ने किया।

समन्वयक
जन संम्पर्क प्रकोष्ठ