एग्री यूनिफेस्ट-2017 : – राष्ट्रीय युवा महोत्सव में देखने को मिली भारतीय भाषाओं और वेषभूषाओं में आकर्षक सांस्कृतिक झलकियां समापन और पारितोषिक वितरण शनिवार को तीन बजे: कुलपति प्रो. गहलोत

.
क्रमांक 1412                                                                                  24 फरवरी, 2017

एग्री यूनिफेस्ट-2017
राष्ट्रीय युवा महोत्सव में देखने को मिली भारतीय भाषाओं और वेषभूषाओं में आकर्षक सांस्कृतिक झलकियां
समापन और पारितोषिक वितरण शनिवार को तीन बजे: कुलपति प्रो. गहलोत

बीकानेर, 24 फरवरी। 17वें एग्री यूनिफेस्ट 2016-17 में शुक्रवार को भारतीय भाषाओं में और अपनी पारंपरिक वेषभूषाओं में सजे-धजे युवा कलाकारों ने अपनी प्रभावी प्रस्तुतियों से हिन्दुस्तान की कला और संस्कृति का सजीव चित्रण किया। देष के कृषि एवं पषु चिकित्सा के 54 विष्वविद्यालयों के युवा कलाकार गत तीन दिनों से अपनी सृजनात्मक क्षमता और नृत्य गीतों, सुगम संगीत, एकांकी नाटक, लघु हास्य नाटिकाओं, एकाभिनय, ललित कला और वाक् पटुता कला से दर्षकों को मंत्रमुग्ध कर रहे हैं। शुक्रवार को ओपन थियेटर में देषभक्ति से ओत-प्रोत 46 समूह गीत प्रस्तुत किये गये हैं जिनमें नवभारत निर्माण के लिये युवाओं का आह्वान, भारतीय नारी का देषभक्ति में योगदान और राष्ट्र की सुरक्षा, एकता और अखण्डता के लिये मर मिटने का संकल्प व्यक्त किया गया। अपरान्ह् पष्चात् इसी मंच से सामूहिक गीतों की धमाल ने दर्षकों को रोमांचित कर दिया। विष्वविद्यालय के आॅडिटोरियम में गत तीन दिनों से सम्पूर्ण सजा के साथ एकांकी नाटकों में युवा कलाकारों ने अपनी अपूर्व अभिनय क्षमता से लोगों को चकित कर दिया। उन्होंने आॅनर किलिंग, किसानों की दषा, कन्या भ्रूण हत्या, अषिक्षा, विभाजन की त्रासदी जैसे विषयों की ओर ध्यान आकर्षित किया। विष्वविद्यालय के लाॅन में आयोजित क्ले माॅडलिंग में युवाओं ने षिल्प कला और कार्टूनिंग कला के विभिन्न पक्षों को उकेरा। षिल्प कला में विभिन्न देवी-देवताओं, पषु-पक्षियों और मानवीय चेतना को मिट्टी की कला-कृतियों में उकेर कर अपनी सृजनात्मक शैली का परिचय दिया। ओपन थियेटर (द्वितीय) में आयोजित लघु नाट्य, प्रहसनों (स्कीट) की 43 प्रस्तुतियां दी गई। गीत और संगीत से भरपूर लघु प्रहसनों ने श्रोताओं को भाव- विभोर कर दिया। मोहनसिंह थियेटर में युवाओं ने ’’ऊर्जा संरक्षण और ऊर्जा के वैकल्पिक श्रोतों ’’ के विषय पर 49 संभागियों ने अपनी वाक्तव्य कला का प्रदर्षन किया। इसके बाद यहां आषु भाषण प्रतियोगिता भी आयोजित की गई। सार्दुल सदन के सभागार में एकल गायन प्रतियोगिता में भी प्रतियोगियों ने अपनी गायन कला का प्रदर्षन किया। वेटरनरी विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ए.के. गहलोत ने शुक्रवार को युवा कलाकारों को संबोधित करते हुए मेहनत, लगन और उत्साह से प्रस्तुत किये जा रहे कार्यक्रमों की सराहना की। उन्होंने कहा कि युवाओं ने अपनी कला प्रतिभा से सबको चकित किया है। शुक्रवार की सांय सभी विद्यार्थियों के युवा कलाकारों ने प्रतियोगिताओं से अलग आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में रंगारग प्रस्तुतियां पेष की। उन्होंने अपने प्रदेष और संस्कृति से सम्बद्ध लोक संगीत और नृत्य की बानगियों से सबका मन मोह लिया।

पारितोषिक वितरण और समापन समारोह शनिवार को
एग्री यूनिफेस्ट 2017 के आयोजन अध्यक्ष एवं राजुवास के अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. एस.सी. गोस्वामी ने बताया कि राष्ट्रीय युवा महोत्सव का समापन और पारितोषिक वितरण समारोह शनिवार को सायं तीन बजे दीवान-ए-आम आॅपन थियेटर में आयेाजित किया जायेगा। शनिवार को प्रातः से एकांकी नाटक, माइम (नक्काली) के मुकाबले तथा माइक्रोबायोलाॅजी विभाग में रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी।

समन्वयक
जनसम्पर्क प्रकोष्ठ