उन्नत पशुपालन एवं पशु उप उत्पाद प्रबंधन विषय पर दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर संपन्न

उन्नत पशुपालन एवं पशु उप उत्पाद प्रबंधन विषय पर दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर संपन्न

पशुचिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविद्यालय, नवानियां, उदयपुर की टीएसपी सेल द्वारा कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) द्वारा वित्त पोषित एवं आईसीआईसीआई फाउण्डेशन, उदयपुर के सहयोग से इस श्रंखला के नौवें दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आज समापन हुआ। इस प्रशिक्षण के समापन अवसर पर वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा वेटरनरी विश्वविद्यालय के अनुसंधान निदेशक डॉ. हेमंत दाधीच, निदेशक मानव संसाधन विकास डॉ. त्रिभुवन शर्मा, अधिष्ठाता पी.जी.आई.वी.ई.आर, जयपुर डॉ. संजीता शर्मा और डॉ. रविंद्र वर्मा उप निदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना, आत्मा, उदयपुर ने भाग लिया l इस अवसर पर एचआरडी निदेशक डॉ. त्रिभुवन शर्मा ने अपने संबोधन में पशुपालकों को वैज्ञानिक तरीके से पशुपालन करने तथा पशुपालन को एक व्यवसाय के रूप में अपनाकर अपनी आय बढ़ाने के लिए प्रशिक्षणार्थियों को प्रेरित किया। अनुसंधान निदेशक डॉ. हेमंत दाधीच ने प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण के दौरान अर्जित ज्ञान को अपने दैनिक जीवन में आत्मसात कर अपनी आजीविका बढ़ाने और समाज की सेवा करने का आह्वान किया l अधिष्ठाता पी.जी.आई.वी.ई.आर, जयपुर डॉ. संजीता शर्मा ने प्रशिक्षणार्थियों को स्वच्छ दूध उत्पादन, परजीवी प्रबंधन, वैज्ञानिक पशुपालन एवं प्रबंधन के बारे में जानकारी साझा कर नवीन वैज्ञानिक तकनीकों को अपने दैनिक जीवन में अपनाने का आग्रह किया l महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रो. (डॉ.) राजीव जोशी ने ‘डबलिंग फार्मर्स इनकम’ का मुख्य आधार पशुपालन को बताते हुए पशुपालकों को वैज्ञानिक तरीके से पशुपालन करने का आव्हान किया l उन्होंने पशुपालकों को पशु पालन के चार प्रमुख स्तंभों जैसे पशु प्रजनन, पशु आहार, पशु स्वास्थ्य और पशु प्रबंधन के बारे में जानकारी साझा की l कार्यक्रम की इस कड़ी में अकादमिक समन्वयक डॉ. शिव कुमार शर्मा ने पशुपालन में महिलाओं की भूमिका के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण में महिलाओं पशुपालकों का चयन एक सराहनीय कार्य है l इस अवसर पर डॉ. रविंद्र वर्मा उप निदेशक कृषि एवं पदेन परियोजना, आत्मा, उदयपुर ने आत्मा द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं व गतिविधियों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी l उन्होंने आश्वासन दिया कि भविष्य में विश्वविद्यालय के सहयोग से इस प्रकार के प्रशिक्षणों का और अधिक आयोजन किया जायेगा l इस दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के दौरान विषय विशेषज्ञों द्वारा वैज्ञानिक पशुपालन के विभिन्न आयामों पर व्याख्यान प्रस्तुत किए गए l प्रशिक्षण के दौरान महिला पशुपालकों को महाविद्यालय की विभिन्न इकाइयों, पशु फार्मों का भ्रमण कराया गया l प्रशिक्षण शिविर में सभी प्रशिक्षणार्थी महिला पशुपालकों को प्रशिक्षण संदर्शिका दी गई l इस शिविर में सलूंबर, उदयपुर से कुल 30 महिला पशुपालकोंं ने भाग लिया। शिविर के समापन से पूर्व आयोजित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहे महिला पशुपालकों को पुरस्कृत किया गया। प्रशिक्षण शिविर के समन्वयक व टीएसपी सेल प्रभारी डॉ. दीपक शर्मा ने इस अवसर पर उपस्थित सभी अतिथियों, संकाय सदस्यों और महिला पशुपालकों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए शिविर के दौरान आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों और गतिविधियों का संक्षिप्त में वर्णन किया l इस अवसर पर डॉ. सुदीप सोलंकी, डॉ. कमल पुरोहित, डॉ. टीकम गोयल आदि उपस्थित रहे l कार्यक्रम का आयोजन डॉ. गोवर्धन सिंह, प्रभारी आईयूएमएस के तकनीकी सहयोग से किया गया l इस प्रशिक्षण शिविर के आयोजन में आईसीआईसीआई फाउण्डेशन, उदयपुर के अधिकारी श्री रामगोपाल वर्मा का सहयोग सराहनीय रहा। इस प्रशिक्षण शिविर का आयोजन राज्य सरकार एवं राजुवास, बीकानेर द्वारा जारी कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखते हुए किया गया।