अकादमिक परिषद् द्वारा राजुवास एक्ट के नए परिनियमों को मंजूरी – शैक्षणिक उत्कृष्टता के साथ विश्वविद्यालय पाठ्यक्रमों को कौशल विकास से जोड़ा जाएगाः कुलपति प्रो. शर्मा

क्रमांक 168                                                                                                                           17 दिसम्बर, 2018

अकादमिक परिषद् द्वारा राजुवास एक्ट के नए परिनियमों को मंजूरी
शैक्षणिक उत्कृष्टता के साथ विश्वविद्यालय पाठ्यक्रमों को
कौशल विकास से जोड़ा जाएगाः कुलपति प्रो. शर्मा

बीकानेर, 17 दिसम्बर। राजस्थान पशुचिकित्सा और पशु विज्ञान विश्वविद्यालय एक्ट-2010 के तहत बनाए गए परिनियमों का वेटरनरी विश्वविद्यालय की 13वीं शैक्षणिक परिषद् की बैठक में अनुमोदन कर दिया गया। कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा की अध्यक्षता में सोमवार को कुलपति सचिवालय में आयोजित शैक्षणिक परिषद् की बैठक में परिषद् के सदस्यों द्वारा दिये गए उपयोगी सुझावों के बाद परिनियमों का अनुमोदन किया गया। इस अवसर पर शैक्षणिक परिषद् के सदस्यों और डीन-डायरेक्टर को सम्बोधित करते हुए कुलपति प्रो. शर्मा ने कहा कि वे शैक्षणिक उत्कृष्टता और विश्वविद्यालय के व्यापक हित में सभी के सुझाव और सहयोग की अपेक्षा करते हैं। उन्होंने गुणवत्तायुक्त शैक्षणिक स्तर और अधिगम स्तर के उन्नयन पर जोर देते हुए स्नातक, स्नातकोत्तर और वाचस्पति पाठ्यक्रमों को कौशल विकास से जोड़ने की आवश्यकता जताई। उन्होंने इसके लिए स्व-वित्तपोषी योजनाओं के साथ ही निर्धारित अनुसूची से अलग भी सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कार्यक्रमों चलाने को मूर्तरूप देने का आह्वान किया। कुलपति प्रो. शर्मा ने बताया कि विष्वविद्यालय एक्ट-2010 के नये बनाए गए परिनियमों से विश्वविद्यालय में सेवा और भर्ती, वित्तीय अधिकारियों की शक्तियों, विद्यार्थियों की शैक्षणिक गतिविधियों और बैठकों के संचालन आदि के रेग्यूलेशन का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा सकेगा। नए परिनियमों को प्रबंधन समिति में अनुमोदन के बाद राज्य सरकार को अनुमोदनार्थ भिजवाया जाएगा। शैक्षणिक परिषद् ने विष्वविद्यालय के विभागाध्यक्षों, डीन-डायरेक्टर्स के कार्यकाल को अधिकतम तीन साल तक किए जाने का भी निर्णय किया। राजुवास के तीनों ही परिसरों में षिक्षकों के लिए 21 दिवसीय आॅरियेन्टेशन प्रोग्राम शुरू किये जायेंगे। बैठक में स्नातक और वाचस्पति के विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए राजुवास के बीकानेर, जयपुर और नवानियां (वल्लभनगर) महाविद्यालयों में उपलब्ध सुविधाओं के मद्देनजर समान रूप से सीटों का वितरण किए जाने को मंजूरी प्रदान की गई। बैठक के प्रारंभ में शैक्षणिक परिषद् की गत बैठक की कार्यवाही का अनुमोदन किया गया। शैक्षणिक परिषद् की बैठक में सदस्य के रूप में डाॅ. रवीन्द्र शर्मा (हिसार), डाॅ. रणजीत सिंह अतिरिक्त निदेषक (पशुपालन विभाग), उरमूल डेयरी के प्रतिनिधि मनोहरलाल जैन सहित राजुवास के फैकल्टी चेयरमैन प्रो. त्रिभुवन शर्मा, पी.जी.आई.वी.ई.आर., जयपुर की अधिष्ठाता प्रो. संजीता शर्मा, वेटरनरी काॅलेज, नवानियां, वल्लभनगर, उदयपुर के अधिष्ठाता प्रो. राजेष कुमार धूड़िया ने षिरकत की। बैठक में कुलसचिव प्रो. हेमन्त दाधीच, वित्त नियंत्रक अरविन्द बिश्नोई, विशेषाधिकारी डाॅ. गोविन्द सिंह, प्रो. बी.एन. श्रृंगी सहित राजुवास के डीन-डायरेक्टर्स और मनोनीत सदस्यों ने भी भाग लिया।

सह-समन्वयक
जनसम्पर्क प्रकोष्ठ